जय बाजपेई और अपर मुख्य सचिव गृह के लिंक्स की हो जांच- यूपी कांग्रेस

0

लखनऊ। कानपुर देहात के बिकरुगांव में हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस टीम पर अंधाधुंध फायरिंग कर दी गयी थी। इस फायरिंग में 8 पुलिसकर्मी मारे गए थे। जिसके बाद पूरे प्रदेश में हड़कंप मचा हुआ है। इस हत्याकांड में अभी भी पुलिस के हाथ खाली है। विकास दुबे की गिरफ़्तारी के लिए पुलिस, क्राइम ब्रांच और एसटीएफ की टीम जगह-जगह दबिश दे रही है। लेकिन अपराधी विकास दुबे अभी भी पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं। पुलिस और एसटीएफ लगातार उसके करीबियों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। इसी दौरान पुलिस को काकादेव थाना क्षेत्र के विजय नगर इलाके में तीन लावारिस लग्जरी गाड़ियां बरामद हुई हैं। काले रंग की तीनों गाड़ियों में नंबर प्लेट नहीं लगी हुई है। पुलिस तीनों गाड़ियों को लेकर थाने आ गई है।

जय बाजपेई से पूछताछ में पता चला है, कि जय ही विकास दुबे का खजांची था। और उसी के पैसे से लोगों को बीसी खिलवाता था। जय बाजपेई की लग्जरी गाड़ियों से ही विकास दुबे सफ़र करता था। लावारिस हालत में गाड़िया मिलने के बाद खुलासा हुआ कि गाड़ियां जय बाजपेई की है। और उसका विकास दुबे से करीबी संबंध है। फिलाहल एसटीएफ लखनऊ लाकर उससे पूछताछ कर रही है।

जय बाजपेई के लिंक कई बीजेपी नेता और ब्यूरोक्रेट्स से भी सामने आए हैं। एक तस्वीर में वे यूपी के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी के साथ दिख रहा है। इस तस्वीर पर कांग्रेस ने ट्वीट कर सरकार से पूछा है, कि कई समाचार चैनलों पर खबरें आ रही हैं। विकास दुबे का सबसे ख़ास सहयोगी जय बाजपेई था। जय बाजपेई विकास की हर तरीके से मदद करता था। लेकिन ये जय बाजपेई के साथ यूपी के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी क्या कर रहे हैं? लिंक्स की जांच होनी जरूरी है।

loading...
शेयर करें