जल्लीकट्टू के समर्थन में प्रदर्शन जारी, PM से मिले पनीरसेल्वम

0

चेन्नई| तमिलनाडु में बैल को काबू करने के प्राचीन और लोकप्रिय खेल जल्लीकट्टू के समर्थन में गुरुवार को भी व्यापक प्रदर्शन जारी है। चेन्नई में मरीना बीच पर बुधवार को पूरी रात प्रदर्शनकारियों का जमावड़ा रहा और गुरुवार सुबह उन्होंने इस इलाके की साफ सफाई में मदद की।

जल्लीकट्टू

जल्लीकट्टू से प्रतिबंध हटाने की मांग कर रहे लोग

मरीना बीच पर बुधवार को एकत्र हुए हजारों युवकों और युवतियों ने न केवल जल्लीकट्टू से प्रतिबंध हटाने की मांग की, बल्कि उन्होंने पशु अधिकार संगठन पीपुल फॉर एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स (पेटा) पर प्रतिबंध लगाने की भी मांग की।

चेन्नई और राज्य के अन्य हिस्सों में स्थित कई कॉलेजों में अवकाश घोषित कर दिया गया है, जिसके चलते मरीना पर और भी छात्रों के प्रदर्शन में शामिल होने की संभावना है। वहीँ सड़कों पर रोष बढ़ने के मद्देनजर मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम ने फौरन एक अध्यादेश लाने की मांग करते हुए गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की

ये भी पढ़ें : एटा में दर्दनाक सड़क हादसा : ट्रक से टकराई स्कूली बस, 15 बच्…

सर्वोच्च न्यायालय ने मई 2014 में जल्लीकट्टू के आयोजन पर रोक लगा दी थी। इसके बाद से ही लोग केंद्र सरकार से जल्लीकट्टू के आयोजन की अनुमति के लिए जरूरी कानूनी कदम उठाने की मांग कर रहे हैं।

प्रदर्शनकारियों का कहना है कि सर्वोच्च न्यायालय ने इस खेल पर रोक लगाकर तमिल संस्कृति का अपमान किया है।

loading...
शेयर करें