जानें लौंग को उगाने से लेकर इसको पहचानने तक की सारी बातें

0

नई दिल्ली। लौंग एक  फूल की कली है, जिसको पूरे देश में अत्यधिक मात्रा में प्रयोग किया जाता है। इसको हम खान पान, पूजा पाठ, दवा आदि चीजो के लिए प्रयोग करते है। लौंग मध्यम आकार का सदाबहार वृक्ष से पाया जाने वाला, सूखा, अनखुला एक ऐसा पुष्प अंकुर होता है जिसके वृक्ष का तना सीधा और पेड़ भी 10-12 मीटर की ऊँचाई वाला होता है और जिसके पत्ते बड़े-बड़े तथा दीर्घवृताकार होते हैं।

इसके पेड़ को लगाने के आठ या नौ वर्ष के बाद ही फल देते है। लौंग के पेड़ों के शाखों के अन्तिम छोरों में लौंग के फूल समूह में खिलते हैं। लौंग की कलियों का रंग खिलना आरम्भ होते समय पीला होता है जो कि धीरे-धीरे हरा होते जाता है और पूर्णतः खिल जाने पर इसका रंग लाल हो जाता है। इन कलियों में चार पँखुड़ियों के मध्य एक वृताकार फल होता है।

कैसी मिट्टी की होती है आवश्यकता

रिच, नम कटिबंधों के बलुई मिट्टी लौंग पेड़ों की व्यावसायिक खेती के लिए आदर्श मिट्टी हैं।

लौंग की पहचान

अच्छे लौंग की पहचान है उसकी खुशबू एवं तैलीयपन। लौंग ख़रीदते समय उसे दातों में दबाकर देखना चाहिए इससे लौंग की गुणवत्ता पता चल जाती है। जो लौंग सुगन्ध में तेज, स्वाद में तीखी हो और दबाने में तेल का आभास हो उसी लौंग को अच्छा मानना चाहिए। व्यापारी लौंग में तेल निकाला हुआ लौंग मिला देते है। अगर लौंग में झुर्रिया पड़ी हो तो समझे कि यह तेल निकाली हुई लौंग है।

loading...
शेयर करें