सरकार बंद कर सकती है सस्ते कॉल रेट, सभी टेलीकॉम कंपनियों ने पीएम मोदी का खटखटाया दरवाजा

0

नई दिल्ली। एक समय ऐसा था जब लोग मिसकॉल करने से डरते थे कि, अगर फ़ोन उठ गया तो पैसे कट जायेंगे। लेकिन धीरे-धीरे टेलीकॉम सेक्टरों का दयारा बढ़ा फिर आउटगोइंग सस्ती हुई। फिर सितंबर 2016 में जब जियो ने टेलीकॉम सेक्टर में एंट्री मारी तो देश की सभी बड़ी टेलीकॉम कंपनियों के होश उड़ गये। इसी को देखते हुए देश की सभी बड़ी टेलीकॉम कंपनियों ने अपने ग्राहकों के लिए फ्री इंटरनेट डेटा और फ्री कॉलिंग के लिए जैसे मानों ऑफर का पिटारा खोल दिया हो फिर भी जियो को पीछे नहीं कर पाई।

जियो ने टेलीकॉम सेक्टर

जियो ने टेलीकॉम सेक्टर में मचाया हलचल

ऐसे में एक बार फिर माना जा रहा है कि सस्ती कॉल और सस्ते इंटरनेट डेटा के दिन लदने वाले हैं। जी हां बिजनेस न्यूजपेपर इकोनॉमिक टाइम्स में छपी खबर के अनुसार बड़ी टेलीकॉम कंपनियों ने आने वाले दिनों में कॉल दरों के अलावा डेटा चार्ज के टैरिफ में भी इजाफा करने के संकेत दिए हैं। स्पेक्ट्रम में लगी बड़ी राशि और टैक्स के बढ़ते बोझ के चलते कंपनियां ये कदम उठा सकती है।

वहीं सेल्युलर ऑपरेटर असोसिएशन के प्रेजिडेंट राजन एस मैथ्यूज से मिली जानकारी के मुताबिक आने वाले कुछ दिनों में कॉल दरें बढ़ सकती हैं। फ़िलहाल ऐसा कब होगा इस बारे में उन्होंने कोई जानकारी नहीं दी। उन्होंने ये भी कहा कि टेलिकॉम इंडस्ट्री फिलहाल सबसे गंभीर दौर से गुजर रही है। आपको बता दें कि इस समय पूरे विश्व में भारत ही ऐसा देश है जहां सबसे सस्ती कॉल दरें लगती हैं।

फ़िलहाल टेलीकॉम कंपनियां इस समय भारी दिक्कतों से गुजर रही हैं। जिसको देखते हुए सरकार ने 22 और 23 जून को देश की सभी बड़ी टेलीकॉम कंपनियों अधिकारियों से मिलेगी। जिसपर कई दिनों तक सरकार कंपनियों की परेशानी और मांगें सुनेगी। इससे पहले 15 से 17 जून के बीच मंत्रियों का ग्रुप टेलिकॉम कंपनियों से मिलकर उनकी स्थिति की समीक्षा करेगा।
 

loading...
शेयर करें