जीडी गोइंका स्कूल में तैराकी के प्रति दिखा उत्साह, 300 बच्चों ने लिया भाग

0

आगरा। कहीं पीछे रहने पर हूटिंग तो कहीं अपने साथी के लिए उत्साहवर्धन। कहीं जीत के लिए मन में आत्मविश्वास तो कहीं जीत या हार की व्याकुलता। कुछ ऐसे ही भाव थे जिला स्तरीय तैराकी प्रतियोगिता में भाग लेने पहुंचे 5-17 वर्ष के बच्चों के चेहरों पर। आगरा जिला तैराकी संघ ने जीडी गोइंका स्कूल में दो दिवसीय स्‍वीमिंग प्रतियोगिता का आयोजन करवाया। इस प्रतियोगिता में पहले दिन 42 हीट्स में लगभग 300 बच्चों ने भाग लिया।

जीडी गोइंका स्कूल में दो दिवसीय स्‍वीमिंग प्रतियोगिता में दिखा उत्‍साह

स्‍वीमिंग प्रतियोगिता पांच (बालक व बालिका अलग-अलग) वर्गों में आयोजित की गई। जिसमें फ्री स्टाइल, बैक स्ट्रोक, ब्रेस्ट स्ट्रोक बटर फ्लाइ प्रतियोगिताओं में 42 हीट्स हुई। प्रत्येक वर्ग में से सभी प्रतियोगिताओं के लिए पहले दिन 6-6 प्रतिभागी चुने गए। संघ के अध्यक्ष राहुल पालीवाल ने बताया कि इन सभी के बीच शुक्रवार को शाम 5 बजे से फाइनल होगा। प्रतियोगिता का शुभारम्भ जीडी गोइंका स्कूल के चेयरमैन केपी अग्रवाल, संजय अग्रवाल, प्रधानाचार्य पुनीत वशिष्ठ व संघ के सचिव उमेश शर्मा ने प्रतिभागियों के परिचय लेकर व उनसे हाथ मिलाकर किया।

प्रतियोगिता में लड़कियों का रहा जलवा

स्‍वीमिंग प्रतियोगिता में एक बात चौंकाने वाली यह रही कि लड़कियों का प्रतिशत 53 रहा। संघ के अध्यक्ष राहुल पालीवाल व सचिव उमेश शर्मा ने बताया कि हर वर्ष लगभग 15 प्रतिशत प्रतिभागियों की बढ़ती संख्या दर्शाती है कि आगरा जिले में तैराकी के प्रति उत्साह बढ़ रहा है। लेकिन सर्दी व बारिश के कारण लगभग 6 माह तक प्रैक्टिस बंद होने से यहां के बच्चे पिछड़ जाते हैं।

बच्चों के साथ मम्मी पापा दिखे ज्यादा उत्साहित

वहीं प्रतियोगिता में बच्चों से कहीं अधिक जीत के लिए अभिभावकों के जेहरे पर चिंता नजर आ रही थी। हो भी क्यों न बच्चे के नेशनल स्तर पर पहुंचने के लिए यह पहली सीढ़ी पार करना बेहद जरूरी है। पल-पल बच्चों को दिशा निर्शेद देते अभिभावक परछाई की तरह बच्चों का साथ देते नजर आए। कहीं उनके सामान की देखबाल करते तो कहीं जीत के लिए टिप्स देते तो कभी जीत के लिए प्रोत्साहित करते दिखे।

loading...
शेयर करें