टाइटैनिक जहाज फिर से आएगा आपके सामने

0

सिडनी। टाइटैनिक जहाज तो आपको याद होगा। इस पर फिल्म भी आ चुकी है। एक बार फिर टाइटैनिक जहाज बनने जा रहा है। इसे सपनों का जहाज भी कहते हैं। तकरीबन 100 साल पहले एक बर्फ की चट्टान से टकराने के चलते यह जहाज खतरनाक हादसे का शिकार होकर जलमग्न हो गया था।

टाइटैनिक जहाज

टाइटैनिक जहाज की कीमत: 300 मिलियन पाउंड

टाइटैनिक जहाज के डूबने की कहानी बड़ी दुखद है। इसमें कई लोगों की जान चली गई थी। टाइटैनिक जहाज में कई लोगों की दिलचस्पी थी। ऑस्ट्रेलिया के एक अरबपति कलाइव पामर भी उनमें से एक हैं। कलाइव पामर ने टाइटैनिक जहाज को फिर से बनाने के लिए करीब तीन सौ मिलियन पाउंड दिए हैं।

एकदम बनेगा ओरिजनल की तरह

खबर मिली है कि यह टाइटैनिक जहाज बिल्‍कुल पुराने वाले की तरह ही बनाया जाएगा। इसका लुक ओरिजनल जहाज की तरह ही होगा। साथ ही इसमें सुरक्षा और दिशा संसूचन के लिये अत्याधुनिक सुविधाएं भी होंगी।

100 साल बाद खुला था टाइटैनिक जहाज के डूबने का राज

टाइटैनिक जहाज के डूबने का कारण करीब 100 साल सामने आया है। टाइटैनिक पर छपी नई किताब में दावा किया गया है कि जहाज के डूबने के लिए दुर्घटना नहीं बल्कि चालक दल की गलती जिम्मेदार थी। यही नहीं, किताब के मुताबिक हिमखंड यानि आईसबर्ग से टक्कर के बाद भी जहाज पर सवार यात्रियों की जान बचाई जा सकती थी।

चालक की गलती से हुआ था हादसा

अब तक यही माना जाता रहा था कि 14 अप्रैल 1912 को दुर्घटना के वक्त टाइटैनिक जहाज तेज गति से चल रहा था और चालक दल हिमखंड को देख नहीं पाया और इसी हिमखंड से टकराकर जहाज दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। लेकिन टाइटैनिक डूबने की असली वजह यह नहीं थी बल्कि टाइटैनिक का डूबना चालक दल की गलती का नतीजा था।

दस अप्रैल 1912 को निकला था पहली बार

दुनिया का सबसे बड़ा जहाज टाइटैनिक 10 अप्रैल 1912 को साउथंपटन से न्यूयॉर्क के लिए अपनी पहली यात्रा पर निकला था लेकिन चालक दल की गलती की वजह से समंदर में समा गया। टाइटैनिक को अभेद्ध समझा जाता था, कहा जाता था कि ये जहाज कभी डूब नहीं सकता। टाइटैनिक पर दो तरह के स्टियरिंग सिस्टम काम कर रहे थे। जहाज पर मौजूद चालक दल के कुछ सदस्यों को एक सिस्टम की जानकारी थी तो बाकी को दूसरे सिस्टम की। लेकिन अचानक इन दोनों सिस्टम के बीच तालमेल टूट गया और हिमखंड से टक्कर के बाद दोनों सिस्टम के चालक दल अलग-अलग दिशा में काम करने लगे और टाइटैनिक समंदर के आगोश में समा गया।

loading...
शेयर करें