टीचर बनने के लिए होनी चाहिए केवल एक पत्नी

लखनऊ। अखिलेश सरकार ने हाल ही में ऊर्दू टीचरों के लिए 3500 भर्तियां निकाली है लेकिन उसमें अब एक ऐसी शर्त रख दी गई है जिसके चलते विवाद की स्थिति बन सकती है। ऊर्दू टीचरों की भर्ती के लिए सरकार ने एक नोटिस जारी किया है। जिसमें यह कहा गया है कि यदि आवेदन करने वाले की एक से ज्‍यादा पत्‍नी है तो वह अप्लाई नहीं कर सकता है। साथ ही यदि महिला उम्‍मीदवार ने दो पत्नियों वाले व्यक्ति से शादी की है तो वह भी इस पद के लिए आवेदन नहीं कर सकता है।

टीचर

टीचर हिंदू हो या मुस्लिम…

 

ऊर्दू टीचरों की भर्ती के लिए अखिलेश सरकार द्धारा जारी की गए नोटिस का मुस्लिम पर्सनल बोर्ड ने विरोध किया है। बोर्ड का कहना है कि यह मुसलमानों के अधिकारों का उल्लंघन है। शिक्षा विभाग से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि यह निर्देश सिर्फ उर्दू शिक्षकों के लिए ही नहीं है, बल्कि उन सभी के लिए है जो शिक्षक बनना चाहते हैं।

मुस्लिमों समुदाय ने किया विरोध

 

मुस्लिमों ने सरकार के इस नोटिस का विरोध किया है। उनका कहना है कि मुस्लिम धर्म में चार विवाह की परमिशन है। इस आदेश का साफ मतलब है कि उन्हें जानबूझकर नौकरी से वंचित रखा जा रहा है। 10 जनवरी से शुरू भर्ती प्रक्रिया में उम्‍मीदवार ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button