डाइट चार्ट की मदद से कम करें अपनी कमर और वजन

0

वजन घटाने में डाइट चार्ट की सबसे अहम भूमिका है। वजन घटाने की सबकी इच्छा होती है, खासकर मोटापे की बुराइयों के चलते। लेकिन यह संभव नहीं हो पाता है। पहली चीज तो यह है कि आप किसी भी उम्र के हैं यदि आप का वजन ज्यादा है पेट निकला हुआ है तो यह मान लीजिये बीमारियों को रहने की जगह मिल गयी है। फिल्म अभिनेत्रियां कैसे इतनी स्लिम ट्रिम रहती हैं। क्या वह खाना नहीं खाती हैं। खाती हैं लेकिन खाने के लिए व्यायाम करती हैं। कहानी की डिमांड पर वजन बढ़ा कर फिर पुरानी स्थिति में लौट जाती हैं कारण सिर्फ एक है संतुलित आहार और संतुलित व्यायाम।

अक्सर महिलाएं पुरुष यह कहते हैं कि आफिस में इतना काम रहता है कि थक जाते हैं व्यायाम का समय ही नहीं मिलता। किसी घरेलू महिला से व्यायाम को कहो तो वह भी यही कहेगी कि घर का काम कम है क्या जो व्यायाम भी करें। सवाल यह है कि जो काम आप कर रहे हैं और जितना आप खा  रहे हैं क्या उनके बीच संतुलन है। अगर अतिरिक्त कैलोरी शरीर में जमा होंगी तो मोटापा तो बढ़ेगा ही।

डाइट चार्ट

डाइट चार्ट कैसे बनायें

1-उचित आहार

महिलाओं को भोजन बनाने से पहले डाइट चार्ट से यह जान लेना चाहिए कि आहार में पोषक तत्व शामिल हैं या नहीं। अगर उचित पोषक तत्व नहीं होंगे तो अपने गुण  के अनुरूप असामान्य असर दिखाएंगे। थका दिमाग है भोजन शरीर को मिला। या थका शरीर है पोषण दिमाग को मिला। ऐसे में सही अनुपात के अभाव किया गया भोजन फैट बढ़ाएगा। पेट निकलेगा। बाकी बचा फैट पीठ कंधों, टांगों, जांघो. हिप्स पर जाएगा। आपको बेडौल बना देगा।

2-कितनी बार खायें खाना

चाहे मोटा आदमी हो या पतला तीन बार खाना खाना बहुत जरूरी होता है। यानी हर चार घंटे में आप को खाना खाना चाहिए। यह आपको स्वस्थ रखेगा। बीमारी को दूर रखेगा।

3-सुबह का नाश्ता

सुबह का नाश्ता सबसे जरूरी है। सुबह का पहला भोजन हैवी ब्रेकफास्ट से लें। सुबह के नाश्ते में दलिया. वेज सैंडविच, पोहा या उपमा ले सकते हैं।

4-दोपहर का भोजन

फिर दोपहर का भोजन उससे हल्का और शाम का भोजन भी हल्का रखें। मतलब कम कैलोरी से है, खाइये भरपेट। दोपहर के भोजन में हरी सब्जी, नीबू, छिलके वाली दाल, दही, रायता ले सकते हैं।

5-रात का खाना

रात के भोजन के तत्काल बाद सोना नहीं चाहिए। रात का खाना खाने के कम से कम तीन घंटे बाद सोएं। यदि आप तत्काल सोएंगे। तो खाना पचाने वाले अम्ल सीधे भोजन की नली की तरफ बढ़ने लगेंगे। इससे सीने में जलन गले में जलन खट्टी डकारें आने लगती हैं। रात का खाना खाकर कभी सीधे नहीं सोना चाहिए इससे आपको खर्राटे आने भी शुरू हो जाते हैं। खाना खाकर बायीं करवट सोना सबसे अच्छा होता है।

6-फल और सब्जी

महंगाई के इस दौर में किसी से फल खाने को कहो तो दौड़ा लेगा। लेकिन फल के नाम पर आप नीबू तो खा सकते हैं वैसे तो दो नीबू रोज खाने चाहिए लेकिन एक नीबू तो कम से कम खाना ही चाहिए। हरी सब्जयां ज्यादा खाएं।

diet-chart-in-hindi-2-633x319

क्या न खाएं

नमक कम खाएं

दूध की चाय न पियें

रात के खाने में राजमा, छोले, चावल, दाल खाने से बचें

क्या खायें

भीगा अनाज चना, मूंग, सोयाबीन आदि अंकुराया हुआ खाना फायदा करेगा। हरी सब्जियां ज्यादा से ज्यादा खायें।

सब्जियों को धो कर उबाल लें और उसका जूस पियें।

चाय काली पीना शुरू करें। बिना दूध की।

चीनी को उबाल कर चाय में न पकायें अलग से डालें।

पानी की कमी से बचें। पानी जरूर पियें।

व्यायाम

जब आपका भोजन नियमित हो जाए तो शुरुआत में कम से कम पांच मिनट दिमाग को खुला छोड़कर आंख बंद कर मन को केन्द्रित करने की कोशिश करें। ध्यान आप एकान्त कमरे या छत पर बैठकर भी लगा सकते हैं। धीरे धीरे आपका मन एकाग्र होने लगेगा।

पांच मिनट ही व्यायाम करें। यदि सूर्य नमस्कार से आसनों से शुरुआत करेंगे तो बेहतर रहेगा। लेकिन शरीर को बिना तकलीफ दिये जितना कर सकें उतना ही करें।

 

loading...
शेयर करें