18 साल की मुस्लिम लड़की ने कहा – मुझे तलाक चाहिए, पति नहीं कर पाता ‘सेक्स’

0

नई दिल्ली। देश में इन दिनों तलाक के कई मामले सामने आए हैं। जिनकी अलग-अलग वजह होती रही हैं। लेकिन महिलाएं तलाक के लिए सेक्स की असंतुष्टि को कारण नहीं बतातीं। ऐसे में पश्चिम बंगाल का ये मामला थोड़ा हटकर है। मुर्शिदाबाद के कटना गांव की फातिमा बीवी (बदला हुआ नाम) ने अपने पति पर नामर्द होने का आरोप लगाते हुए तलाक ले लिया है।

तलाक

तलाक लेने के लिए घरवालों ने कहा

18 साल की फातिमा की शादी कुछ दिन पहले खेचुरी गांव में रहने वाले वसीम अब्बास (बदला हुआ नाम) के साथ हुई थी। एक हफ्ते पहले फातिमा ने शिकायत की थी कि उनको पति से शारीरिक सुख नहीं मिल रहा है। इसके बाद दोनों परिवारों की मौजूदगी में एक बैठक हुई और इस मसले पर बातचीत की गई। शादी की रस्मों के बाद जब फातिमा के परिवार वाले उससे मिलने उसकी ससुराल पहुंचे, तो उन्हें पता चला कि वसीम को कुछ यौन दिक्कत है। बाद में जब वो अपने मायके आई, तो घर वालों ने उससे इस बारे में पूछा। इस पर फातिमा ने उन्हें सब कुछ बता दिया।

सुहागरात के बारे में बताया

तलाक के अलावा फातिमा ने अपने सास-ससुर ने दहेज में दिया गया 55,000 नकद और बाकी सामान भी लौटाने को कहा है। फातिमा की दादी ने उससे उसकी सुहागरात के बारे में पूछा। इसपर फातिमा ने उन्हें सबकुछ बता दिया। फातिमा के परिवार ने उसे सलाह दी कि उसको न्याय मांगना चाहिए, ना कि ऐसी शादी में फंसे रहना चाहिए जहां उसे यौन सुख ना मिले। इसके बाद फातिमा ने स्ट्रीट सरवायवर्स इंडिया नाम का एक एनजीओ चलाने वालीं शबनम रमास्वामी से मुलाकात की।

55 हजार का खर्च आया था

फातिमा ने हमें बताया कि मैंने 9वीं कक्षा तक पढ़ाई की है। मेरे पति कढ़ाई का काम करते हैं। मेरे परिवार ने शादी में दहेज के तौर पर 55 हजार रुपये के अलावा बिस्तर, गद्दा और कई चीजें दी थी। उसमें भी 55 हजार का खर्च आया। सुहागरात में मुझे महसूस हुआ कि मेरे पति के यौनांग में कुछ दिक्कत है और वह उत्तेजित नहीं हो पाता। वसीम की मां ने कहा कि शादी में मिला सामान लौटाने की जगह वह 55 हजार रुपये नकद ही लौटा देंगी। वह पैसा भी शुक्रवार को दे दिया गया। मैंने वसीम से वादा किया है कि मैं उसकी दिक्कत दूर करने के लिए उसे किसी सेक्स विशेषज्ञ डॉक्टर से मिलवाऊंगी।

loading...
शेयर करें