ताज हरित क्षेत्रः जांच में फंस गये आगरा अथॉरिटीज के अफसर

sandeep
आगरा।
उच्चतम न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता एवम् पर्यावरणविद् एमसी मेहता सहित 3 सदस्यीय दल ने वन क्षेत्र का निरीक्षण किया। यह दल एनजीटी के आदेश पर जांच के लिए आया था। यह जांच 12 हजार पेड़ों को काटने को लेकर की जा रही है।

जांच दल ने समतल किये गए वनक्षेत्र के लिये आगरा की अथॉरिटीज को दोषी माना है। दल ने देखा कि वन क्षेत्र में वरिष्ठ अधिकारियों की नाम पट्टिका तो लगी हुई है लेकिन उनके द्वारा लगाये गये पौधों का पता नहीं है।

गौरतलब है कि एनजीटी ने पूरे ताज ट्रिपेजियम जोन (टीटीजेड) में किसी भी तरह की हरियाली को नष्ट न करने के आदेश दिये हुए थे लेकिन अधिकारियों ने ताज के नजदीक ही दो दर्जन से अधिक पेड़ों को कटवा डाला था। हरियाली की यह कुर्बानी मेहताबबाग के नजदीक ताज व्यू पाइंट बनाने के लिए दी गयी थी।

 

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button