कायर आतंकियों से नहीं डरेगा हिन्दुस्तान, हमले के बाद हज़ारों तीर्थयात्रियों का जत्था अमरनाथ रवाना

0

जम्मू। कश्मीर के अनंतनाग में सोमवार को हुए आतंकी हमले के बाद अमरनाथ यात्रा के लिए मंगलवार को तीर्थयात्रियों का एक और जत्था बाबा श्री अमरनाथ के दर्शन के लिए रवाना हुआ है। बता दें यहां सोमवार को हुए हमले में सात लोगों की मौत हो गई थी।

मरने वालों में छह महिलाएं और एक पुरूष है

अधिकारियों ने बताया, 3,289 तीर्थयात्रियों का जत्था मंगलवार को सुबह तीन बजे भगवती नगर यात्री निवास से रवाना हो गया। इस काफिले में 185 वाहन शामिल हैं। गौरतलब है कि सोमवार रात को श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग पर अनंतनाग जिले में तीर्थयात्रियों की एक बस पर किए गए हमले में सात की मौत हो गई थी जबकि 19 घायल हो गए। मृतकों में छह महिलाएं और एक पुरूष है।

तीर्थयात्री जिस बस में सफर कर रहे थे, वह बस न ही यात्रा के काफिले की बस थी और न ही श्री अमरनाथ श्रायन बोर्ड (एसएएसबी) में पंजीकृत थी। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, यह हमला रात 8.20 बजे हुआ। राजमार्ग पर यात्रा शाम सात बजे ही रोक दी गई थी, जिसके बाद किसी भी तीर्थयात्री को जाने की अनुमति नहीं थी। इस घटना में मारे गए तीर्थयात्री उत्तरी कश्मीर के बालटाल शिविर से बस में चढ़े थे।

पीएम मोदी ने किया ट्वीट

इस हमले के बाद पीएम ने ट्वीट कर कहा, जम्मू-कश्मीर में शांतिपूर्ण तरीके से यात्रा कर रहे अमरनाथ यात्रियों पर हमले से हुई पीड़ा को शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता। इस हमले की सभी को कड़ी निंदा करनी चाहिए। मेरी संवेदनाएं हमले में जान गंवाने वाले लोगों के परिवारों के साथ हैं। अमरनाथ यात्रा पर आखिरी बार हमला पहलगाम में 2000 में किया गया था, जिसमें 30 लोगों की मौत हो गई थी। यह 40 दिवसीय लंबी यात्रा 29 जून को शुरू हुई थी और सात अगस्त को समाप्त होगी।

महबूबा ने क्या कहा था

इस हमले के बाद मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने इस हमलें को सभी मुस्लिमों और कश्मीरियों पर धब्बा बताया था। अनंतनाग में एक अस्पताल में घायलों से मिलते हुए उन्होंने कहा था कि इस घटना को लेकर हर कश्मीरी का सिर शर्म से झुक गया है। मुख्यमंत्री ने कहा, तीर्थयात्री तमाम मुश्किलों के बावजूद यात्रा के लिए हर साल कश्मीर आते हैं और आज सात लोगों की मौत हो गई। मेरे पास इसकी निंदा करने के लिए कोई शब्द नहीं है।

loading...
शेयर करें