IPL
IPL

तीर्थयात्रियों ने खोला रेलवे के दावों का राज

यात्रियों को बेहतर सुविधा और साफ-सफाई के वादे पर खरा नहीं उतर पाया है उत्तर मध्य रेलवे। माघ मेले में आ रहे तीर्थयात्रियों की दिक्कतों ने सब कुछ खोल कर रख दिया है। यात्रियों के लिए माघ मेले की यात्रा भारी यंत्रणा का सबब बनती जा रही है। यात्रियों को ट्रेनों में न तो  पीने योग्य पानी उपलब्ध हो पा रहा है न ही साफ सफाई ही मिल पा रही है। वह तो शुक्र है कि ठंड का मौसम है अगर गर्मी का मौसम होता तो न जाने कितने यात्री अस्पताल पहुंच चुके होते।  हद तो यह है कि इलाहाबाद स्टेशन पर भी साफ सफाई का कत्तई ध्यान नहीं रखा जा रहा है। यात्री शिकायत कर रहे हैं लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

तीर्थयात्रियों

तीर्थयात्रियों की पीड़ा क्यों न बढ़े

माघ मेला में इलाहाबाद स्टेशन बेहाल चारो ओर गंदगी। स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक पर शौचालय के दरवाजे टूटे हुए हैं। नल की टूटी टोटियों के कारण शौचालय में पानी भरा है। यही स्थिति स्टेशन के अन्य प्लेटफार्म पर भी है। शौचालय की इस बदहाली की जानकारी स्टेशन मास्टर से लेकर जोनल व डीआरएम ऑफिस में बैठे अधिकारियों तक को है। इसे सुधारने के लिए किसी अधिकारी के सिर पर जूं तक नहीं रेंग रही है। कुंभकरणीय नींद में सोए अधिकारियों को जगाने के लिए लगता है अब रेलमंत्री के ट्वीट वाला घुनघुना बजाना पडेगा।
सरकारी योजना का लग रहा पलीता

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जहां देश में सफाई अभियान चलाकर सफाई और स्वच्छता का पाठ पढ़ा रहे हैं वहीं केन्द्र सरकार के कर्मचारी ही उनकी योजनाओं को पलीता लगा रहे हैं।  उत्तर मध्य रेलवे के अधिकारियों में स्टेशन व ट्रेनों की सफाई को लेकर थोडी भी गंभीरता नजर नहीं आ रही है। ये हाल तो तब है जबकि माघ मेले के दौरान बड़ी संख्या में तीर्थयात्रियों  के आने से रेलवे पर पैसा बरसता है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button