दक्षिणपूर्व एशिया में धूमधाम से मनाया गया रमजान का समापन

0

 

जकार्ता। दक्षिणपूर्व एशिया में लाखों मुसलमानों ने रविवार को रमजान के समापन का जश्न मनाया। इस्लाम धर्म में रमजान पवित्र महीना माना जाता है, जिसमें इस धर्म के अनुयायी रोजाना व्रत रखते हैं। खबरों के अनुसार, इंडोनेशिया, मलेशिया और ब्रूनेई में प्रमुख नेता इस पवित्र पर्व को मनाने के लिए अपने-अपने देशों में सुबह के समय आयोजित समारोहों में शामिल हुए।

दक्षिणपूर्व एशिया

दक्षिणपूर्व एशिया में 26 करोड़ लोग मानते हैं इस्लाम धर्म

इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो ने अपनी पत्नी इरियाना के साथ इस्तिकलाल मस्जिद में ईद-उल-फितर प्रार्थना में हिस्सा लिया। दक्षिणपूर्व एशिया की यह सबसे बड़ी मस्जिद है।

इसके बाद विडोडो राष्ट्रपति निवास पहुंचे, जहां लोगों से मिलने के सुबह 9 बजे से 11 बजे तक के लिए राष्ट्रपति निवास के द्वार खोले गए थे। ईद के मौके पर राष्ट्रपति का अपने आवास पर लोगों से मिलने का प्रचलन है। इंडोनेशिया की 26 करोड़ में से 87 प्रतिशत जनसंख्या इस्लाम धर्म को मानती है। इस धर्म को मानने वाली यह विश्व की सबसे बड़ी आबादी है।

मलेशिया में सुल्तान मुहम्मद पंचम ने संघीय क्षेत्र मस्जिद में 17,000 लोगों की भीड़ से मुखातिब होने के बाद प्रार्थना की। मलेशिया में 3 करोड़ निवासियों में 60 प्रतिशत मुस्लिम धर्म को मानने वाले हैं। प्रधानमंत्री नजीब रजाक और अन्य राजनैतिक और धर्म प्रमुखों को एक मस्जिद में देखा गया। यह मस्जिद वर्ष 2000 में बनी थी।

ब्रूनेई में वहां के प्रधानमंत्री के आधिकारिक निवास और अन्य प्रतीकात्मक इमारतों को लोगों के लिए कुछ घंटों के लिए खोला गया।बहुसंख्यक कैथोलिक आबादी वाले फिलीपींस, जहां 10 करोड़ में से 11 प्रतिशत मुस्लिम आबादी है, सेना ने मरावी शहर में आठ घंटे का संघर्ष विराम घोषित किया। फिलहाल, इस शहर पर इस्लामिक स्टेट (आईएस) से जुड़े आतंकियों का कब्जा है।

रमजान इस्लामिक लुनर कैलेंडर का नौवां महीना है। पूरे महीने लोग रोजा (व्रत) रखते हैं और अनुशासन में रहने का प्रयास करते हैं। इस्लाम धर्म में विश्वास रखने वाले लोगों के लिए इस दौरान रोज के नियम के मुताबिक सभी क्रिया-कलाप करना पड़ता है। इस दौरान सूर्यास्त तक धूम्रपान और यौन संबंध बनाना वर्जित है।

loading...
शेयर करें