दलित समझकर पुलिस ने संघ विचारक को किया गिरफ्तार, बाद में छोड़ा

0

राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघनई दिल्ली। दो अप्रैल को पूरे देश में एससी-एसटी एक्‍ट में बदलाव के सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर प्रदर्शन किया गया। इस प्रदर्शन के कारण देश भर में नौ लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ गया। इसके साथ ही प्रदर्शनकारियों ने करोड़ों रुपयों की संपत्ति को जलाकर खाक कर दिया। इस प्रदर्शन के कारण देश भर के लोगों को पूरे दिन काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। वहीं ऐसा ही कुछ राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के विचारक और दिल्‍ली यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर राकेश सिन्‍हा के साथ भी हुआ।

राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के विचारक हैं सिन्‍हा

दरअसल राकेश सिन्‍हा को मंगलवार को नोएडा पुलिस ने दलित प्रदर्शनकारी समझकर गिरफ्तार कर लिया। हालांकि बाद में उनको छोड़ दिया गया। वहीं इस घटना के बाद राकेश सिन्‍हा नाखुश हैं। मीडिया से बात करते हुए उन्‍होंने बताया कि वह नोएडा के एक मीडिया हाउस में बहस के लिए हिस्‍सा लेने जा रहे थे। तभी उन्‍हें पुलिस ने पकड़ कर जीप में बिठा लिया।

Also Read : नहीं मान रहे दलित संगठन, आज भी रहेगा आंदोलन का असर

राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के विचारक सिन्‍हा ने आगे बताया कि करीब आठ पुलिस वालों ने ऐसा किया, जिनका नेतृत्‍व नोएडा के एसएचओ कर रहे थे।  उन्‍होंने कहा कि उनके साथ अपमानजनक भाषा का भी इस्‍तेमाल किया गया। जब सिन्‍हा ने पुलिस से पूछा कि उन्‍हें क्यों गिरफ्तार किया गया है तो पुलिस ने कहा कि आप जा सकते हैं। बाद में पुलिस ने बताया कि उन्होंने उन्‍हें दलित प्रदर्शनकारी समझकर गिरफ्तार कर लिया था।

Also Read : अखिलेश और नीतीश चुनावी मैदान में, यूपी-बिहार में विधान परिषद चुनाव की तारीखों का ऐलान

आपको बता दें कि कुछ दिन पहले एससी-एसटी एक्ट पर गिरफ्तारी को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ सारे दलित संगठनों ने सोमवार को भारत बंद बुलाया था। इसके बाद पूरे देश में हिंसा की खबरें सामने आईं। कई जगह हिंसा कर रहे लोगों को रोकने के लिए पुलिस को बल का भी प्रयोग करना पड़ा।

loading...
शेयर करें