ट्रेन की चपेट में आकर 10 गायों की दर्दनाक मौत

0

देहरादून। उत्तराखंड में आए दिन गायों की दर्दनाक मौत हो रही है। दिल्ली-काठगोदाम एक्सप्रेस की चपेट में आने से इस तरह के हादसे होती हैं। आज सुबह करीब 10 गायों की मौत हुई है। ये घटना बेरीपड़ाव रेलवे फाटक में हुई।

दिल्ली-काठगोदाम एक्सप्रेस

दिल्ली-काठगोदाम एक्सप्रेस से हो रही हैं गायों की मौत

जानकारी के मुताबिक बेरीपड़ाव रेलवे फाटक में दिल्ली-काठगोदाम एक्सप्रेस की चपेट में आने से 10 गायों की दर्दनाक मौत हो गई। गेटमेन प्रेम सिंह ने स्टेशन मास्टर लालकुआं को सूचना दी। जिस पर एसएसई रेलवे नीरज कुमार के नेतृत्व में टीम ने मौके पर पहुंचकर रेलवे ट्रैक को साफ करवाया। सूचना पर पहुंचे लालकुआं कोतवाल उमेद सिंह दानू, हल्दूचौड़ चौकी प्रभारी देवेंद्र सिंह बिष्ट और ग्रामीणों ने जेसीबी से गायों को घटनास्थल से उठाकर समीप के जंगल में पूरे विधि विधान से दफनाया।

ग्राम प्रधान संजय राणा का कहना था कि विगत एक वर्ष पूर्व आरओ वन विभाग चंदन सिंह अधिकारी को आवारा गायों के सिलसिले में अवगत कराया था कि जंगल के समीप उनके लिए पानी की उचित व्यवस्था की जाए।

परंतु इस विषय में कोई सुध नहीं ली गई। जिस कारण गायों का ग्रामीण क्षेत्रों में आतंक बदस्तूर जारी है। उनका कहना है कि इससे पूर्व में बेरीपड़ाव गेट के निकट आवारा गाय का संदिग्ध अवस्था में मरना तथा गायों का निरंतर आवागमन होना वन विभाग की लापरवाही है। मामले में गौर सेवक विजय खोलिया का कहना है कि वन विभाग के अधिकारियों को घटना की सूचना दी गई थी। लेकिन उनका कहना था कि ये मामला हमारे स्तर का नहीं है, हम इसमें कुछ नहीं कर सकते हैं।

बता दें कि आए दिन यहां रेलवे लाइन पर जानवर आ जाते हैं। जिससे उनकी मौत हो जाती है। कुछ दिनों पहले एक हाथी ट्रेन के चपेट में आ गई थी। जिसके बाद उसकी मौत हो गई।

loading...