…तो मोदी-मोदी के नारे लगाते दिखेंगे केजरीवाल

0

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने नोटबंदी को मुद्दा बनाते हुए एक बार फिर केंद्र सरकार को आड़े हाथों लेने की कोशिश की है। केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा लगाई गई नोटबंदी को लेकर दावा किया है कि अगर पीम मोदी की नोटबंदी से भ्रष्टाचार वा काला धन ‘ख़त्म हो जाएगा तो मैं भी मोदी-मोदी के नारे लगाऊंगा। हालांकि साथ ही उन्होंने मोदी से नोटबंदी के फैसले को वापस लेने की मांग भी की।

दिल्ली के मुख्यमंत्री

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने फिर उठाया नोटबंदी का मुद्दा 

केजरीवाल ने कहा कि प्रधानमंत्री एक दिन में कई बार अपने कपड़े बदलते हैं लेकिन वह लोगों को नोटबंदी के कारण कभी-कभार त्याग करने का प्रवचन देते हैं। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के कारण श्रमिक, किसान और कारोबारी बर्बाद हो गए हैं और लोग अपनी नौकरियां गंवा रहे हैं, लेकिन प्रधानमंत्री कई बार कपड़े बदलने में व्यस्त हैं। मोदी जी आप जो भी कहते हैं, आपको पहले अपने ऊपर इसे लागू करना चाहिए।

केजरीवाल सोमवार को बवाना में व्यापारियों को संबोधित कर रहे थे। यहां कारोबारियों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि उनके कई मोर्चों पर प्रधानमंत्री के साथ मतभेद हैं लेकिन अगर वह स्वच्छ भारत अभियान, योग दिवस जैसे अच्छे काम करेंगे तो वह हमें अपने साथ खड़ा पाएंगे।

जिस समय दिल्ली के मुख्यमंत्री व्यापारियों को संबोधित कर रहे थे, व्यारियों का एक धड़ा मोदी-मोदी के नारे लगाने लगा। अपने रैली में मोदी-मोदी के नारे सुन केजरीवाल ने कहा कि अगर नोटबंदी वास्तव में भ्रष्टाचार और कालाधन खत्म कर देगी तो मैं भी ‘मोदी-मोदी’ के नारे लगाऊंगा। हमने अन्ना जी के साथ भ्रष्टाचार रोधी आंदोलन में अपने जिंदगियां जोखिम में डाली थीं।

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा, ‘हमने स्वच्छ भारत अभियान, योग दिवस और सर्जिकल स्ट्राइक के लिए प्रधानमंत्री के कदम का स्वागत किया था लेकिन मोदी ने नोटबंदी लाकर गलती की है और हम इसका विरोध करेंगे।’ केजरीवाल ने आरोप लगाते हुए कहा कि नोटबंदी का फैसला पीएम मोदी ने भारी-भरकम लोन लेने वाले अपने कॉर्पोरेट दोस्तों को ‘फायदा’ दिलाने के लिया है।

बाद में एक सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट पर वीडियो डालकर दिल्ली के मुख्यमंत्री ने अपनी मांग दोहराई कि प्रधानमंत्री नोटबंदी का फैसला वापस लें। उन्होंने कहा कि पीएम ने जनता से नोटबंदी के कारण होने वाली समस्याओं को दूर करने के लिए 50 दिन मांगे थे, लेकिन वित्त मंत्री का कहना है कि स्थिति सामान्य होने में छह महीने लगेंगे। मोदी जी और जेटली को भी इसका हल नहीं पता।

loading...
शेयर करें