अगर इन बातों का रखेंगे ध्यान तो हमेशा होगी आपकी ‘Happy Deewali’

0

नई दिल्ली। दिवाली रोशनी का त्योहार है। पूरा देश आतिशबाजी और रोशनी की दमक से सराबोर हो जाता है। बच्चे तो बच्चे बड़े भी इसकी मस्ती में खो जाते हैं। लेकिन इसका दूसरा पक्ष यह भी है कि इस दिन होने वाली आतिशबाजी न केवल प्रदूषण बढ़ाती है, बल्कि आतिशबाजी के दौरान होने वाली थोड़ी-सी भी लापरवाही हमारे लिए बहुत घातक हो सकती है।

दिवाली के दौरान आतिशबाजी से जलने की घटनाओं से हम अच्छी तरह परिचित हैं, लेकिन सवाल यह उठता है कि इस तरह की घटनाओं से कैसे बचा जाए और अगर ऐसी कोई घटना हो तो किन बातों का ख्याल रखें।

यह भी पढ़े- पूनम पांडे ने लोगों को अवेयर करने के लिए उतार दिए कपडे, वीडियो वायरल 

दीवाली

दिवाली पर अगर रखेंगे इन खास बातों का ध्यान तो नहीं होगी आंखों और त्वचा में कोई समस्या

पटाखे हमेशा मान्यता प्राप्त दुकान से खरीदें और इस बात की कोशिश करें कि बच्चों को अकेले पटाखें खरीदने न जाने दें।   आप उनकी सुरक्षा का ध्यान रख कर ही उन्हें पटाखे दिलवाएं।

दीवाली पर अक्सर बच्चे शैतानी करने के लिए पटाखे किसी बंद डिब्बे या मटके में डाल कर जलाते हैं, ऐसे में कई बार मटके या डब्बे के टूटने से बच्चों के घायल होने की संभावना भी होती है। इससे बेहतर होगा की आप उनको अकेले पटाखे न जलाने दें।

ऊनी सिल्क व कृतिम कपड़ों में आग बहुत जल्दी पकड़ लेती है, इससे बचने के लिए बेहतर होगा की पटाखे जलाते समय सूती कपड़े ही पहने। जिस भी जगह आप पटाखे जला रहे हैं, वहां पानी से भरी बाल्टी जरूर रखें, ताकि गलती से कोई दुर्घटना हो जाए तो तुरंत पानी का प्रयोग किया जाए।

यह भी पढ़े- शोएब अख्तर ने नेहरा का मजाक उड़ाने में पार की हदें, आपका भी खौल जायेगा खून

अपने पास हमेशा फस्र्ट ऐड किट तैयार रखें, साथ ही आपके पास बर्फ भी प्रयाप्त मात्रा में होनी चाहिए।  दिवाली में जलने पर सर्वाधिक प्रभावित हमारी त्वचा और आंखें ही होती है। ऐसे में जलने पर हमें किन बातों का ख्याल और क्या सावधानी रखनी चाहिए?

वरिष्ठ त्वचा विशेषज्ञ डॉ. किरण धर के अनुसार, जले हुए हिस्से को फौरन पानी से धोएं और बर्फ लगाएं। और अगर अगर जलन मामूली है तो जले हुए हिस्से पर नारियल जैतून या फिर नीम का तेल भी लगा सकते हैं। इसके अलावा, जले हुए हिस्से पर शहद या फिर एलोवेरा जेल भी लगा सकते हैं।

डॉ. धर ने कहा कि अगर कोई गंभीर रूप से जल गया है तो उसे फौरन कंबल में लपेटें और अस्पताल ले जाएं। जले हुए व्यक्ति के कपड़े उतारने का प्रयास न करें, इससे जली हुई त्वचा पर बुरा प्रभाव पड़ने की संभावना होती है। जली त्वचा पर केले का पत्ता बांधना कारगर होता है, क्योंकि इससे ठंढक मिलती है और आराम भी।

यह भी पढ़े- भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट सीरीज का हुआ ऐलान, जानिए पूरा शेड्यूल

डॉ. किरण ने कहा कि पटाखों में कई तरह के रसायन प्रयोग किए जाते हैं, जिसकी वजह से अगर हम न भी जलें तो भी उसका धुंआ हमारी त्वचा को बहुत नुकसान पहुंचता है और हमारी त्वचा रूखी हो जाती है। इससे बचने के लिए दिन में कम से कम आठ-10 ग्लास पानी पीएं, इसके अलावा अच्छे मॉइश्चराइजर का प्रयोग करें तथा चेहरे और शरीर के अन्य अंग जो खुले हों, उनको किसी अच्छे रसायन मुक्त क्लिंजर से साफ करें।

loading...
शेयर करें