जानें, इस दीवाली बन रहे ये 14 शुभ मुहूर्त

0

देहरादून। दीवाली से पहले धनतेरस पर हर कोई नई चीजों की खरीदारी करता है। कहा जाता है कि इस दिन नया सामान खरीदना शुभ होता है। यह दीपावली आपकी खुशियों को दोगुना कर देगी क्योंकि इस बार एक नहीं बल्कि 14 शुभ मुहूर्त के योग बन रहे हैं।

दीवाली

दीवाली से पहले 14 शुभ योग

इस बार दीवाली पर एक नहीं बल्कि पूरे महीने कुल 14 शुभ योग हैं। इस बार श्रीवत्स योग, अहोई अष्टमी, कालाष्टमी एवं सूर्य बुध के होने से इतने योग बन रहे हैं। दीपावली से 8 दिन और धनतेरस से 6 दिन पहले 23 अक्टूबर रविवार को रवि पुष्य नक्षत्र का महासंयोग बन रहा है।

इस दिन खरीदारी का विशेष महत्त्व

इस दिन खरीदारी का विशेष महत्व माना गया है। धनतेरस से पहले आने वाला यह योग बाजार में समृद्धि की बाहर लेकर आएगा। रवि पुष्य अपने आप में श्रेष्ठ नक्षत्र माना जाता है। यह पूरे 15 घंटे रहेगा। 22 को शनि पुष्य व 23 को रवि पुष्य का योग बनने से भूमि, भवन वाहन व अन्य स्थाई सम्पत्ति में निवेश करने से लाभ होगा।

नक्षत्रों का राजा है पुष्य नक्षत्र

सोना, चांदी, बर्तन, कपड़ा, इलेक्ट्रॉनिक के सामान, वहीं खाता खरीदी का व लक्ष्मी के पूजन सामग्री खरीदने का महामुहूर्त है। पुष्य नक्षत्र को नक्षत्रों का राजा माना जाता है। इसलिए इसमें की गई खरीदी समृद्धि कारक होती है। पुष्य नक्षत्र की धातु सोना है जिसे खरीदने से वस्तु भविष्य में दोगुनी व तिगुनी हो जाती है।

लोगों के लिए लाभदायक साबित होता है ये नक्षत्र

इस योग के रहते कोई वस्तु बेचनी नहीं चाहिए क्योंकि भविष्य में वस्तु दोगुनी या तीन गुनी बेचनी पड़ सकती है। दीपावली जैसे पर्व पर पुष्य नक्षत्र लोगों के लिए लाभदायक सिद्ध होता है। 22 अक्टूबर को रात्रि 8.41 बजे प्रारंभ होगा, जो 23 को रात्रि 8.41 तक रहेगा दिवाली के 8 दिन पहले पुष्य नक्षत्र दिवाली से पूर्व धनतेरस अबूझ मुहूर्त वाला दिन माना जाता है।

23 अक्टूबर को रवि पुष्य नक्षत्र योग

इस बार 23 अक्टूबर को रवि पुष्य नक्षत्र योग रहेगा, जो खरीदी के लिए शुभ व समृद्धिकारक मना जाता है। दिवाली से 8 और धनतेरस से 6 दिन पहले रविवार को रवि पुष्य नक्षत्र का संयोग बन रहा है।

 

loading...
शेयर करें