पहलवानों के लिए भारी साबित हुआ देश का अपमान

0

हरिद्वार। देश का अपमान पहलवानों को भारी पड़ता दिख रहा है। नामचीन रेसलर दलीप सिंह राणा उर्फ ग्रेट खली और कनाडा के रेसलर ब्राडी स्टील के खिलाफ हरिद्वार की अदालत में मुकदमा दर्ज किया गया है। आरोप है कि पिछले दिनों देहरादून में द ग्रेट खली रिटर्न शो के दौरान ब्रॉडी स्टील ने देश का अपमान किया था और खली ने डेथ वारंट पर हस्ताक्षर कर संविधान का उल्लंघन किया। मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में वरिष्ठ अधिवक्ता अरुण कुमार भदौरिया ने पहलवानों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है।  भदौरिया के अनुसार कोर्ट ने उनकी अपील को स्वीकार भी कर लिया है। कोर्ट में इसी महीने अरुण भदौरिया के बयान होंगे।

 
ये भी पढ़ें – खली ने लिया बदला,ब्रॉडी, मैक्स और अपोलो सबको धोया

देश का अपमान 3

देश का अपमान कर माहौल बिगाड़ने की कोशिश

भदौरिया ने कहा कि बीती 27 फरवरी को ब्राडी ने मुख्यमंत्री हरीश रावत के निवास पर आयोजित पत्रकार वार्ता में कहा था कि हमने हमेशा भारतीयों पर राज किया है और हम आपसे हर मामले में श्रेष्ठ हैं। अधविक्ता का ये भी आरोप है कि ब्रॉडी ने ऐसा बयान देकर न केवल देश का अपमान किया बल्कि भारतीयों की भावनाओं को जान बूझकर ठेस पहुंचाई है। उन्होंने आरोप लगाया कि इस दौरान खून का बदला खून से लेने जैसे जुमले भी खूब कहे गए, जिससे पूरे देश में अराजकता जैसा माहौल बनाने का प्रयास किया गया। भदौरिया ने ये भी कहा कि विदेशी रेसलर ब्रॉडी स्टील ने भारत की कानून व्यवस्था के बारे में भी अपमानजनक टिप्पणी कर न्याय व्यवस्था को चुनौती दी है। उन्होंने कहा कि खेल के दौरान ही दोनों ही रेसलर्स ने ‘डेथ वारंट’ पर हस्ताक्षर किए। संविधान में साफतौर पर अंकित है कि डेथ वारंट पर हस्ताक्षर का अधिकार केवल और केवल न्यायालय को ही हासिल है। भदौरिया ने ये भी कहा कि इन दोनों पहलवानों की भिड़ंत से पहले, भिड़ंत के दौरान और बाद में भी माहौल खराब होने की आशंका बनी रही जो चिंताजनक बात है।

loading...
शेयर करें