दो छात्रों को भारी पड़ा अप्रैल फूल, प्रिंसिपल ने पुलिस से पकड़वाया

0

लखनऊ। पहली अप्रैल दो स्कूली छात्रों को भारी पड़ गयी। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के एक स्कूल में यह वाक्या हुआ। आशियाना के सेक्टर जी स्थित एक कॉन्वेंट स्कूल में पढ़ने वाली अपनी दोस्त को अप्रैल फूल बनाने के लिए दोनों छात्र उसके स्कूल पहुंच गए और उसके पिता की तरफ से लिफाफे में एक चिट्ठी भेजकर बाहर बुलाने की कोशिश की। स्कूल का चपरासी चिट्ठी लेकर छात्रा के क्लास रूम पहुंचा तो पता चला कि वह आई ही नहीं। प्रिंसिपल को शक हुआ तो उन्होंने दोनों छात्रों को बैठा लिया। स्कूल प्रशासन ने इस मामले की सूचना पुलिस को दे दी। स्कूल पहुंची पुलिस को देख होश उड़ गए। यहां दोनों ने छात्रा को अपना दोस्त बताते हुए अप्रैल फूल बनाने का खुलासा किया।

अप्रैल फूल

अप्रैल फूल में कहा ‘मामा की डेथ हो गई, जल्दी घर आ जाओ’

चिट्ठी में दोनों छात्रों ने छात्रा के पिता की तरफ से लिखा कि तुम्हारे मामा की मौत हो गई है और हम सभी उन्नाव जा रहे हैं। एक मोबाइल नंबर लिखते हुए बताया कि तुम (साथ पढ़ने वाले भइया का नाम) के साथ घर आ जाना। कोई परेशानी हो तो उपरोक्त नंबर पर बात कर लेना। लिफाफे में चिट्ठी के अलावा 1000 रुपये के दो-तीन नकली नोट भी रखे थे।

अपहरण की साजिश की जताई आशंका तो हाथ-पैर फूले

छात्र अपने किसी दोस्त की इनोवा कार लेकर स्कूल आया था। स्कूल प्रशासन को जब जानकारी मिली तो उनके होश उड़ गए। कुछ टीचर्स ने छात्रा के अपहरण की साजिश की आशंका जताई। इसी बीच पुलिस आ गई। वर्दीधारियों को देखकर छात्रों के पसीने छूट गए। पुलिस दोनों को चौकी ले जाने लगी तो वह हाथ-पैर जोड़कर गिड़गिड़ाने लगे। हालांकि, एसओ ने दोनों को पुचकार कर शांत करा दिया।

मैनेजमेंट कॉलेज के प्रिंसिपल का बेटा है शरारती छात्र

अप्रैल फूल बनाने के लिए फर्जी चिट्ठी की शरारत करने वाला छात्र गोमतीनगर के एक मैनेजमेंट कॉलेज के प्रिंसिपल का बेटा है। उसने बताया कि छात्रा उसकी अच्छी दोस्त है और वह उसे चौंकाना चाहता था। पुलिस ने प्रिंसिपल को मौके पर बुलवाया और उनके सामने ही छात्र को सही-गलत के बारे में जानकारी दी।

loading...
शेयर करें