दो सिर वाली बच्‍ची रोई, दूध पिया फिर…

कानपुर। दो सिर वाली बच्‍ची पैदा होने के 30 घंटे बाद मर गई। यूपी के कानपुर में दो सिर वाली बच्‍ची का ऑपरेशन के बाद जन्म हुआ था। इसके बाद उसे शहर के न्यू मां सरोज नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया था। कानपुर देहात में मंगलपुर क्षेत्र के जसापुर गांव की अनीता देवी को अपनी दो सिर वाली बच्‍ची का पता प्रसव से पहले हुए अल्‍ट्रासाउंट में चला था।

दो सिर वाली बच्‍ची

दो सिर वाली बच्‍ची

गुरुवार को अनीता को प्रसव पीड़ा हुई। घरवालों ने सिकंदरा में अल्ट्रासाउंड कराया। बताया गया कि महिला के गर्भ में दो बच्चे हैं। दर्द बढ़ने पर उसे शुक्रवार रात औरैया शहर स्थित न्यू मां सरोज नर्सिंग होम लाया गया। मगर वहां पर डॉक्टर के न होने से नर्सिंग होम संचालक उसे काकादेव स्थित स्टार मेडिकल सेंटर में ले गए, जहां पर शनिवार सुबह ऑपरेशन से उसे दो सिर वाली बच्ची पैदा हुई।

पढ़ें : #Special2015 wonders newborns.
दो सिर होने से घरवाले घबरा गए और जच्चा-बच्चा को लेकर औरैया के नर्सिंग होम चले आए। इस बीच यह खबर पूरे शहर में फैल गई। दाे सिर वाली बच्‍ची के पिता ने बताया कि मां-बेटी स्‍वस्थ लग रहे हैं। उसने बताया क‍ि बच्‍ची के दोनों मुंह एक साथ रोते हैं। दोनों ही मुंह में दूध पिलाया गया। लेकिन रविवार दोपहर करीब साढ़े बारह बजे उसकी मौत हो गई।

पढ़ें : डेढ़ महीने के बच्चे को मां ने पिलाई ‘वोदका’

डॉक्‍टरों के मुताबिक यह एक जेनेटिक डिफेक्ट है। जुड़वा बनने की प्रक्रिया में जब एक बच्चे का विकास कुछ दिन बाद शुरू होता है तो कभी-कभी बच्‍चों के शरीर जुड़ जाते हैं।

पिछले साल यूपी के मथुरा में भी एक महिला ने दो सिर वाली बच्‍ची को जन्‍म दिया था। हालांकि वह कानपुर की बच्‍ची की तरह थोड़ी किस्‍मतवाली भी नहीं थी। जन्म के 15 मिनट बाद ही नवजात की मौत हो गईथी। खास बात ये थी कि इस दो सिर वाली बच्‍ची का एक चेहरा गोरा था जबकि दूसरा सांवला था।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button