नई सरकार आते ही अपनी कुर्सी बचाने की जुगत में लगे अधिकारी

0

देहरादून। प्रदेश में अभी नई सरकार को आये कुछ ही समय हुआ है कि मंत्रिमंडल का गठन होने के साथ ही अपनी धाक ज़माने की कोशिशें शुरू हो गयी हैं। लोगों ने अफसरशाही से जुगत भिड़ानी तो शुरू की ही है बल्कि जो भी नेताओं से पुराने संबंध हैं उन्हें निकाले जा रहें है। जो नए नेता हैं उनसे नए संबंध बनाने की योजनाएं बनायीं जा रही हैं।

नई सरकार

नई सरकार आने से कांग्रेस सरकार में साइड किये गए अधिकारी नई उम्मीद पाले बैठे

आपको बता दें कि प्रदेश में नई सरकार के आने से शासन से लेकर जिला स्तर तक फेरबदल तो पक्की है, तो जो अधिकारी पहले से ही अहम पदों पर हैं वो अपनी कुर्सी को बचाने के लिए हर तरीके के प्रयास में लगे हैं। सबकी नजरें शासन व प्रशासन के अहम पदों पर टिकी हैं। दूसरी तरफ प्रदेश में कांग्रेस सरकार में साइड किये गए अधिकारी नई उम्मीद पाले बैठे हैं। इसके लिए अपने पुराने संबंध खोजे जा रहे हैं।

जितने भी अधिकारी-कर्मचारी भाजपा से जुड़ें हुए हैं। वो सब दरवाजों पर आकर नमस्कार व राम-राम के बहाने अपने चेहरे दिखाकर पुरानी यादों को ताजा करने की जुगत में लगे हुए हैं। कुछ अधिकारी संघ व भाजपा में प्रभावशाली नेताओं से करीबी पाने के लिए संबंध की खोज कर रहे हैं।

ऐसे अधिकारियों को सुबह से देर रात नेताओं के घरों के चक्कर काटते देखा जा सकता है। वहीं, विभागीय अधिकारियों की नजरें अब मंत्रियों को मिलने वाले पोर्टफोलियो पर भी टिकी हुई हैं। कारण यह कि इससे मंत्री का कद भी तय होना है। चूंकि अधिकारियों का मकसद अपने मंत्रालय से अधिक होता है इसलिए फिलहाल मंत्रालयों के वितरण का इंतजार किया जा रहा है ताकि इसी हिसाब से अपने संपर्क सूत्रों का इस्तेमाल किया जा सके।

loading...
शेयर करें