दिल्ली में नकली सिक्के बनाने वाली फैक्ट्री का पर्दाफाश, मुख्य दो आरोपी फरार

0

नई दिल्ली। दिल्ली के बवाना इलाके में पुलिस ने नकली सिक्के बनाने वाले एक गिरोह को पकड़ लिया है। पुलिस ने गिरोह के पास से 600 किलो यानि लगभग 40 हजार रुपए से भी ज्यादा नकली सिक्के बरामद किए हैं। पुलिस ने मौके से एक शख्स को गिरफ्तार किया है लेकिन गिरोह का मुख्य सरगना और आरोपी फैक्ट्री मालिक अभी फरार है।

ये भी पढ़ें : ‘आप’ को टक्कर देने मैदान में उतरे योगेन्द्र और प्रशांत, ‘स्वराज इंडिया’ नाम से बनाई नई पार्टी

नकली सिक्के

नकली सिक्के बनाने वालों का पुलिस ने भंडाफोड़ा

बाहरी जिला पुलिस उपायुक्त एमएन तिवारी के अनुसार रोहिणी सेक्टर 11 के बाला जी मंदिर के पास पुलिस टीम ने स्विफ्ट डिजायर कार को जांच के लिए रोका। नरेश ने पुलिस को यह कहकर झांसा देने की कोशिश की कि वह पंजाब नैशनल बैंक का अधिकारी है। लेकिन टीम ने जब आरोपी से पहचान पत्र दिखाने को कहा तो वह सकपका गया। सीनियर अधिकारियों के संज्ञान में इस घटना की जानकारी देकर, एएटीएस टीम ने आरोपी को हिरासत में ले लिया। पूछताछ में नरेश ने एएटीएस टीम को बताया कि बवाना इंडस्ट्रियल एरिया में सिक्के बनाने की अवैध फैक्ट्री चल रही है। नरेश ने फैक्ट्री चलाने वालों के नाम सोनू और राजू बताए हैं। राजेश कुमार नाम का व्यक्ति इस फैक्ट्री का मैनेजर है।

नकली सिक्के

नरेश ने पूछताछ में बताया कि वह दादरी में ऑटो पार्ट एसेसरी की दूकान चलाता था। दूकान में सिक्को की जरूरत के चलते उसकी पहचान सोनू और राजू से हुई। दोनों उसे पांच और दस रुपये के सिक्के मुहैया कराते थे। 2014 में दोनों ने उसे नकली सिक्को के बारे में बताया और सिक्को की सप्लाई में मदद करने के लिए कहा। व्यवसाय में घाटे और कर्ज से उबरने के लिए उसने दोनों का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया।

पुलिस को जांच में पता चला कि फैक्ट्री मालिक पर बिहार के अररिया जिले में हत्या का एक मुकदमा भी दर्ज है। पुलिस के मुताबिक, यह गिरोह बड़ी ही चालाकी से इलाके में नकली सिक्के बनाने के काम में जुटा हुआ था। दरअसल , लोगों को दिखाने के लिए इसे एक कार पॉलिश की फैक्ट्री का रूप दिया गया था।

फैक्ट्री के मालिक पर एक हत्या का भी आरोप है 

वहीं नकली सिक्के बनाने के काम में जुटे लोगों को भी फैक्ट्री मालिक ने बंधक बना रखा था। उन्हें आपस में किसी से बात करने की इजाजत नहीं थी। फैक्ट्री मालिक ने सभी के फोन भी जब्त कर रखे थे। बता दें कि इससे पहले यह गिरोह यूपी के दादरी में नकली सिक्के बनाने की फैक्ट्री चला रहा था। वहां पुलिस ने छापा मारा तो गिरोह के सदस्यों ने दिल्ली के बवाना इलाके में डेरा डाल लिया। फिलहाल पुलिस गिरोह के पूरे नेटवर्क का पता लगाने में जुटी हुई है। पुलिस जल्द ही गिरोह के सरगना को भी गिरफ्तार करने की बात कह रही है।

 

loading...
शेयर करें