नेशनल अवॉर्ड विनर नागराज पर उनकी एक्स वाइफ ने लगाए संसनीखेज़ आरोप

0

मुंबई। अपनी फिल्मों के जरिए लोगों को अच्छी सीख देने वाले मराठी के फेमस डायरेक्टर नागराज पोपटराव मंजुले पर उनकी एक्स वाइफ ने संगीन आरोप लगाए हैं। नागराज की पत्नी सुनीता ने उनपर मारपीट और हैरेसमेंट के आरोप लगाया है। मराठी फिल्म ‘सैराट’ नागराज ने डायरेक्ट की है। ‘सैराट’ मराठी की अब तक की सबसे हिट और अवॉर्ड विनिंग फिल्म है।

 नागराज पोपटराव मंजुले

नागराज पोपटराव मंजुले पर एक्स वाइफ ने लगाया घरेलू हिंसा का आरोप

नेशनल अवॉर्ड विनर नागराज की एक्स वाइफ का कहना है , ‘जैसे ही नागराज को शोहरत मिली, उन्होंने मुझे साइडलाइन कर दिया। उन्होंने जो सपने दिखाए, वे चूर-चूर कर दिए। जब मैं बच्चे की मांग करती थी तो मुझे जमकर पीटा जाता था। कभी हाथों से, कभी बेल्ट से तो कभी लकड़ी से। एक बार मुझे घर में बंद कर नेशनल अवॉर्ड लेने चले गए थे।’

बच्चे की मांग पर बुरी तरह पीटते थे नागराज

नागराज और सुनीता की 1997 में शादी हुई थी। धीरे-धीरे दोनों के रिश्ते में खटास आने लगी और उन्होंने 2012 में तलाक के लिए आवेदन किया। दो साल बाद दोनों कानूनी तौर पर अलग हो गए। सुनीता का कहना है कि हर औरत की तरह मेरा भी मां बनने का सपना था, लेकिन नागराज को यह मंजूर नहीं था। नागराज मुझसे हमेशा कहता था कि परिवार के चलते वह फिल्म बनाने के अपने सपने को पूरा नहीं कर पाएंगे। ऐसे में जब भी मैं बच्चे की मांग करती तो वह मुझे पीटता था। सुनीता का आरोप है कि नागराज ने कई बार उनका गर्भपात भी करवाया।

कमरे में बंद कर दिल्ली चला गया पूरा परिवार 

इतना ही नहीं जब नागराज को अपनी पहली शॉर्ट फिल्म ‘पिसतुल्या’ के लिए नेशनल अवॉर्ड लेने दिल्ली जाना था। तब वो और उनका पूरा परिवार सुनीता को घर में अकेले छोड़ बाहर से घर को ताला लगा कर चले गए। सुनीता बोलीं, ‘मुझे नहीं पता उन्होंने मेरे साथ ऐसा क्यों किया’।

सुनीता ने परिवार पर भी लगाया धोखाधड़ी का आरोप 

सुनीता का यह भी कहना है कि तलाक के कागजात साइन करते वक्त मुझे ज्यादा समझ नहीं थी। मुझे सात लाख रुपए मिले, जिसमें से एक लाख रुपए वकील ने फीस के रूप में ले लिए। मुझे बाद में पता चला कि नागराज की संपत्ति और तलाकशुदा पत्नी को भरण-पोषण के लिए मिलने वाले पैसे में मेरा कोई हक नहीं होगा। सुनीता ने नागराज के परिवार पर भी प्रताडि़त करने का आरोप लगाया है।

कौन हैं नागराज मंजुले
39 साल के नागराज मंजुले मराठी फिल्मों के जाने-माने डायरेक्टर हैं। नागराज ने 2010 में अपनी पहली फिल्म पिसतुल्या के लिए नेशनल अवॉर्ड (बेस्ट डायरेक्टर-नॉन फीचर फिल्म) हासिल किया। 2013 में आई नागराज की दूसरी फिल्म ‘फेंड्री’ के लिए सोमनाथ अवगाड़े को बेस्ट चाइल्ड आर्टिस्ट का नेशनल अवॉर्ड मिला। 2016 में आई ‘सैरात’ के लिए भी नागराज को स्पेशल ज्यूरी के नेशनल अवॉर्ड से नवाजा गया।

loading...
शेयर करें