भारतीय मूल के वकील ने अमेरिकियों पर चलायी अंधाधुंध गोलियां, पुलिस ने मार गिराया

0

ह्यूस्टन। भारतीय मूल के एक वकील ने सोमवार सुबह अमेरिका के ह्यूस्टन शहर में अंधाधुंध गोलियां चलाकर नौ लोगों को घायल कर दिया था। उसके बाद पुलिस ने उसे मार डाला। वह सैनिकों जैसे कपड़े पहने था, जिस पर स्वास्तिक चिन्ह अंकित था।  गत 13 वर्षो में भारतीय मूल के किसी व्यक्ति द्वारा इस तरह की गोलीबारी की यह दूसरी घटना है।

एबीसी13 के आईविटनेस न्यूज के अनुसार, नाथन देसाई हैंडगन और एक छोटी मशीनगन लिए हुए था। उसने करीब 20 मिनट तक गोलीबारी की। उस दौरान उसने आसपास से गुजरने वाली कारों और पुलिस पर भी गोलियां चलाईं।

नाथन देसाई

भारतीय मूल के वकील नाथन देसाई ने अमेरिकियों पर चलाई अंधाधुंध गोलियां

आईविटनेस न्यूज की ओर से कहा गया है कि देसाई लॉ स्ट्रीट में अपने आवासीय परिसर के ठीक बाहर जब गोलीबारी कर रहा था, तब उसने अपनी कार का इस्तेमाल गोली बारूद रखने के लिए कर रहा था और बचने के लिए एक पेड़ की ओट का सहारा ले रहा था।

पुलिस ने कहा कि उसे यह नहीं पता है कि नाथन देसाई ने इस तरह बिना सोचे-समझे क्यों हिंसात्मक व्यवहार किया। ह्यूस्टन की मीडिया की खबरों में देसाई का नाम कैपिटल एस में लिखा गया है, जिससे लगता है कि वह यूरोपीय हो सकता है, लेकिन उसके पिता की पहचान प्रकाश देसाई के रूप में की गई है।

ह्यूस्टन पुलिस की प्रभारी पुलिस प्रमुख मार्था मोनताल्वो ने बताया कि गोलीबारी में घायल सभी लोग बच गए हैं, लेकिन एक गंभीर रूप से घायल है और पांच अन्य भी अस्पताल में हैं। मोनताल्वो ने बताया कि गोली चलाने वाले वकील की उसकी कानूनी कंपनी के साथ समस्या थी। जब पुलिस ने उसकी गोलीबारी का जवाब दिया तो उसने पुलिस वालों पर ही गोली चला दी, जिसके बाद जवाबी कार्रवाई में वह मारा गया।

गोली चलाने वाले वकील के 80 वर्षीय पिता प्रकाश देसाई ने बताया कि उनका बेटा परेशान इस वजह से था कि वकील के रूप में उसकी प्रैक्टिस ठीक नहीं चल रही थी। उन्हें यह विश्वास नहीं हुआ कि उनका बेटा गोलीबारी करने वाला है, क्योंकि दोनों ने उसके गोली चलाने से 12 घंटे पहले ही साथ में खाना खाया था।

loading...
शेयर करें