निशानेबाजी : विश्व कप के दूसरे दिन भारत को मिली निराशा

0

नई दिल्ली। भारतीय निशानेबाज विश्व कप के दूसरे दिन दो स्पर्धाओं के फाइनल में पहुंचने के बाद भी पदक जीतने में कामयाब नहीं हो सके। शनिवार को विश्व कप में चीन ने अपना दबदबा कायम रखा। चीन ने दूसरे दिन तीन स्वर्ण और दो रजत पदक अपने नाम किए। चीन पांच पदकों के साथ पदक तालिका में शीर्ष पर बना हुआ है।

निशानेबाज विश्व कप

निशानेबाज विश्व कप में ऑस्ट्रेलिया और इटली ने जीता स्वर्ण पदक

आस्ट्रेलिया और इटली ने शॉट गन रेंज में एक-एक स्वर्ण पदक अपने नाम किया। भारत 50 देशों में से नौ पदक जीतने वाले खिलाड़ियों में शामिल है। भारत को पूजा घाटकर ने पहले दिन पदक दिलाकर पदक तालिका में जगह दिलाई। दिन के पहले पदक मैच में पुरुष 25 मीटर रैपिड फायर पिस्टल स्पर्धा में भारत के नीरज कुमार ने छह खिलाड़ियों के फाइनल में 579 के स्कोर के साथ क्वालीफाई किया। यह नीरज का पहला विश्व कप फाइनल था। उनकी शुरुआत अच्छी नहीं रही और अनुभव की कमी के कारण वह इससे उबर नहीं पाए और छठे स्थान पर रहे।

चीन की जियाजि लाओ और जुनमिन ली ने इस स्पर्धा में स्वर्ण और रजत पदक हासिल किया। पुरुष ट्रैप स्पर्धा में भारत के जोरवार सिंह संधु ने कुल 118 के स्कोर के साथ फाइनल में जगह बनाई। छह खिलाड़ियों के फाइनल में उनके साथ रियो ओलम्पिक-2016 में रजत पदक हासिल करने वाले जियोवानी पेलिएलो और पूर्व विश्व चैम्पियन स्पेन के अलर्बटो फर्नाडेज थे।

जोरवार ने काफी मेहनत की लेकिन उन्हें चौथे स्थान से ही संतोष करना पड़ा। इटली के सिमोने डी एम्ब्रोसियो ने 45 का स्कोर कर स्वर्ण पदक हासिल किया। उनके हमवतन पेलिएलो को 43 के स्कोर के साथ दूसरे स्थान और फर्नाडेज 33 के स्कोर के साथ तीसरे स्थान पर रहे। विश्व कप में पहली बार शनिवार को मिश्रित युगल की प्रतियोगिता खेली गई। हर देश छह टीमों में से दो टीम उतार सकता था जो फाइनल के लिए क्वालीपाई कर चुकी हों। चीन की दो टीमों ने फाइनल में जगह बनाई। चीन-1 की टीम पहले, जापान की टीम दूसरे और चीन-2 की टीम तीसरे स्थान पर रहीं।

रविवार को होने वाले मुकाबले में सभी की नजरें पूर्व नंबर एक हिना सिद्धू पर होंगी। हिना महिलाओं की 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में हिस्सा लेंगी।

loading...
शेयर करें