बिहार में अब गुटखा और पान मसाला भी बंद

0

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पहले जहां प्रदेश में शराब की बिक्री पर रोक लगाकर प्रदेश को शराब मुक्त बनाने की पहल की थी वहीं अब उन्होंने प्रदेश को नशा मुक्त बनाने की कवायद शुरू कर दी है। दरअसल, नीतीश सरकार ने बिहार में गुटखा और पान-मसाला पर लगे बैन को एक साल के लिए बढ़ा दिया है।

नीतीश सरकार का बड़ा फैसला

नीतीश सरकार

मिली जानकारी के अनुसार, 21 मई से एक साल तक प्रदेश में तंबाकू और निकोटिन युक्त गुटखा और पान मसाला को बनाने, बेचने और भंडारण करने पर पाबंदी लगा दी गई है। यह पाबंदी पहले से ही लगी थी जिसे बिहार सरकार ने 2017 तक बढ़ा दी है।

नीतीश सरकार ने शनिवार को इस फैसला सुनाते हुए इसका उल्लंघन करने वाले के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के आदेश जारी किये हैं। प्रदेश में गुटखा और पान मसाला पर लगे इस बैन को सफल बनाने के लिए सरकार ने जांच और छापेमारी के आदेश भी जारी किये हैं।

खाद्य संरक्षा एवं मानक अधिनियम, 2006 के तहत बिहार में गुटखा और पान मसाला बनाना, बेचना, एक जगह से दूसरी जगह ले जाना,पूर्ण रूप से प्रतिबंध है। यह रोक बीते वर्ष 2006 से लागू है।

इससे पहले बिहार में मुख्यमंत्री के रूप में तीसरी पारी की शुरुआत करते हुए नीतीश कुमार ने शराब की बिक्री और खरीद पर रोक लगाईं थी। ऐसा कर उन्होंने बिहार को देश का पांचवा ड्राई प्रदेश बना दिया था। हालांकि बीच-बीच में यह खबर मिलती रही है कि यहां रहने वाले शराबी यूपी और नेपाल से शराब लाकर नशा करते हैं।

आपको बता दें कि गुटखा और पान-मसाला जैसे नशीली चीजों की वजह से कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी होती है। इसी वजह से डॉक्टर तक इसके सेवन के लिए मना करते हैं। कई सामाजिक संस्थाएं भी इसी बिक्री पर रोक लगाने के लिए आवाज उठाती रही हैं।

loading...
शेयर करें