भारतीय 100 का नोट मिलते ही दूर होगी नेपाल में छुट्टे की दिक्कत

0

नई दिल्ली। नेपाल में भारत की छोटी करंसी की दिक्कत से हाहाकार मचा हुआ है। लोगों का रोज रोज का लेनदेन प्रभावित हो रहा है। इसको देखते हुए रिजर्व बैंक ने नेपाल को 100-100 के नोट देने का भारेसा दिया है। ध्यान रहे कि नेपाल के बाजारों में भारतीय करंसी से आराम से लेनदेन किया जा सकता है।
भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) पड़ोसी मुल्क नेपाल को 100-100 रुपये की करंसी के रूप में एक अरब रुपये की रकम देने पर राजी हो गया है। यह रकम इसलिए दी जा रही है ताकि नेपाल में 100 रुपये के नोटों की जो जबर्दस्त किल्लत है, उसे दूर किया जा सके। दरअसल, इस हिमालयी देश ने काफी पहले इस बारे में मांग की थी, लेकिन 8 नवंबर 2016 को नोटबंदी का फैसला लागू होने के बाद आरबीआई ने अभी तक इस बारे में फैसला नहीं किया था। ऐसा इसलिए कि नोटबंदी के बाद 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों के चलन से बाहर होने पर खुद देश में ही कैश की किल्लत चल रही है।
रिजर्व बैंक हुआ तैयार
एक नेपाली अखबार की रिपोर्ट के अनुसार आरबीआई, नेपाल के केंद्रीय बैंक नेपाल राष्ट्र बैंक (एनआरबी) को यह रकम देगा। रिपोर्ट के मुताबिक, हाल में ही आरबीआई ने एनआरबी को एक पत्र लिखकर कहा कि वह 100 रुपये की करंसी के रूप में जल्द ही एक अरब रुपये मुहैया कराएगा। एनआरबी के अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि की और कहा कि सेंट्रल बैंक इस महीने ही भारत से इस रकम को लाने की तैयारी कर रहा है।
नेपाल में चल रही है किल्लत
बता दें कि नोटबंदी के बाद एनआरबी ने भी नेपाल में भारतीय नोटों की एक्सचेंज की सीमा को घटा दिया है। फिलहाल नागरिकता प्रमाण पत्र के आधार पर दो हजार रुपये तक की भारतीय करंसी मुहैया कराई जा रही है। इसके अलावा जो लोग भारत की यात्रा संबंधी हवाई या रेल टिकट मुहैया करा रहे हैं उन्हें 10 हजार रुपये तक की भारतीय करंसी एक्सचेंज करने का विकल्प दिया जा रहा है। इसके अलावा मेडिकल सुविधाओं के लिए भारत आने वालों को 25 हजार रुपये तक की भारतीय करंसी दी जा रही है।
इस बार घट सकती करंसी एक्सचेंज की सुविधा
भारत हर साल नेपाल को छह अरब रुपये की भारतीय करंसी के एक्सचेंज की सुविधा देता है, लेकिन नोटबंदी के कारण इस बार शायद ही उसे यह फायदा मिले। एनआरबी में बैंकिंग ऑफिस के एग्जिक्युटिव डायरेक्टर जनक बहादुर अधिकारी ने कहा कि इस साल एनआरबी को सिर्फ एक अरब 20 करोड़ रुपये ही मिले हैं।

शेयर करें