बागी विधायकों की सदस्यता पर आज आ सकता है फैसला

0

नैनीताल हाईकोर्टनैनीताल। उत्तराखंड में सियासी घमासान जोरों पर है। इस बीच आज नैनीताल हाईकोर्ट में बागी विधायकों की सदस्यता समाप्त करने के मामले में सुनवाई होनी है। बागी विधायकों की ओर से सीए सुंदरम फिर से अपना पक्ष रखेंगे।

नैनीताल हाईकोर्ट में दोनों पक्षों की होगी सुनवाई

नैनीताल हाईकोर्ट में दोनों पक्षों की सुनवाई के बाद कोर्ट अपना फैसला सुना सकता है। बागी विधायकों की ओर से विगत सोमवार को कोर्ट में सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता सीए सुंदरम व दिनेश द्विवेदी ने अपना पक्ष रखा वहीं मंगलवार को स्पीकर की ओर से पूर्व केंद्रीय कानून मंत्री एवं वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल व अमित सिब्बल ने अपना पक्ष रखा था।

विधानसभा स्पीकर गोविंद सिंह कुंजवाल से कोर्ट ने पूछे थे सवाल

नैनीताल हाईकोर्ट ने बागी विधायकों के मामले में सोमवार को विधानसभा स्पीकर गोविंद सिंह कुंजवाल से जो सवाल किए थे, उसके बाद मंगलवार को गोविंद सिंह कुंजवाल के वकील एवं पूर्व केंद्रीय कानून मंत्री और वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल एवं उनके बेटे अमित सिब्बल ने कोर्ट में स्पीकर का पक्ष रखा।

28 अप्रैल को होनी थी अगली सुनवाई

नैनीताल हाईकोर्ट में पक्षों की सुनवाई के बाद एकलपीठ ने मामले की अगली सुनवाई के लिए 28 अप्रैल की तिथि नियत की है। वहीं सोमवार को सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता सीए सुंदरम और दिनेश द्विवेदी ने हाईकोर्ट में बागी विधायकों का पक्ष रखा था।

मंगलवार को स्पीकर के अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने कोर्ट के सवाल ‘सदन में वित्त विधेयक पारित हुआ या नहीं’ के जवाब में कहा कि उनका वित्त विधेयक पारित होने संबंधी कोई बिंदु नहीं हैं बल्कि बागी विधायकों द्वारा सदन के बाद गैलरी और बस समेत जहाजों में भाजपा के साथ जाना उनका मुख्य मुद्दा है। कपिल सिब्बल ने कहा कि इन 9 बागियों में से एक पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा और दूसरा कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत हैं।

loading...
शेयर करें