नोएडा में कोरोना संदिग्ध महिला अस्पताल के सातवीं मंजिल से लगाई छलांग , मौत…

नोएडा के सेक्टर 24 स्थित ईएसआईसी अस्पताल की सातवीं मंजिल से कूदकर टीबी रोगी कोरोना संदिग्ध एक छात्रा ने सोमवार की सुबह जान दे दी। पीड़िता एक दिन पहले ही अस्पताल में भर्ती हुई थी। सेक्टर-45 स्थित खजूर कॉलोनी निवासी 22 वर्षीय युवती कंचन ने इसी साल बी कॉम की पढ़ाई की थी। उसे टीबी थी, कई दिनों से कंचन की तबीयत ठीक नहीं चल रही थी।

परिजनों के अनुसार कंचन को भर्ती कराने के लिए अस्पताल के कई चक्कर लगाने पड़े। रविवार सुबह 10 बजे उसे ईएसआईसी अस्पताल की 7वीं मंजिल पर बने वार्ड में भर्ती कर दिया गया। बताया गया कि सोमवार की सुबह कंचन ने जूस मांगा था, उसके पिता जैसे ही नीचे आये तभी कंचन ने खिड़की से कूदकर अपनी जान दे दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जिम्स भेजा, जहां मृतका का सैंपल लेने के बाद शव को सेक्टर 94 स्थित अंतिम निवास पर भेज दिया। रिपोर्ट आने के बाद ही कोरोना का पता चल पाएगा।

जिले के चिकित्सक अपनी हरकतों से बाज नही आ रहे हैं। मजबूर पिता को अपनी बेटी का शव रखवाने के लिए खुद फ्रिज की व्यवस्था करनी पड़ी। देर शाम तक भी पुलिस ने शव का पंचनामा नही भरा, जिससे पीड़ित परिवार शाम तक अंतिम निवास पर ही बैठा रहा।

ईएसआईसी अस्पताल के डायरेक्टर डॉ. बलराज भंडारी ने बताया कि युवती को समय पर भर्ती कर लिया गया था, अस्पताल की लापरवाही नही, व्यक्तिगत परेशानियों के चलते युवती ने आत्महत्या की है। स्वजनों के सभी आरोप निराधार है।

उधर, ग्रेटर नोएडा के इकोटेक तीन कोतवाली क्षेत्र स्थित इंपीरिया हाउसिंग सोसायटी में अफ्रीकी पिता ने तीन महीने की बेटी की जमीन पर पटक कर हत्या कर दी। आरोपित का मन इसके बाद भी नहीं भरा, उसने बेटी के शव को दूसरी मंजिल की बालकनी से नीचे फेंक दिया। पत्नी से विवाद होने पर आरोपित बेकाबू हो गया और बेटी की हत्या कर डाली। मौके पर पहुंची पुलिस ने आरोपित विदेशी युवक को गिरफ्तार कर लिया है। डीसीपी सेंट्रल नोएडा हरीश चंदर ने बताया कि इंपीरिया सोसायटी में अफ्रीकी मूल के दंपती तीन महीने की बेटी के साथ रह रहे थे।

Related Articles