नोटबंदी पर सुप्रीम कोर्ट में आज होगी सुनवाई, सरकार ने कहा- हमारा पक्ष भी सुनें

0

नई दिल्ली। केंद्र सरकार द्वारा 500 और 1000 रुपये के नोट बंद करने के बाद से पूरे देश में अफरा- तफरी मची हुई है। सरकार के इस फैसले से आम जनता को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में सरकार के इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में कई याचिकाएं दायर की हैं जिनकी सुनवाई आज होनी है।

नोटबंदी पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

नोटबंदी पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

दायर की गईं याचिताओं में कहा गया है कि सरकार के इस फैसले से नागरिकों के जीवन और व्यापार करने के साथ ही कई अन्य अधिकारों में बाधा पैदा हुई है। मुख्य न्यायधीश टी.एस. ठाकुर और न्यायमूर्ति डी.वाई. चंद्रचूड़ की पीठ इस याचिका पर सुनवाई करेगी। सरकार के फैसले के खिलाफ दायर चार याचिकाओं में दो जनहित याचिकाएं दिल्ली के वकील विवेक नारायण शर्मा और संगम लाल पांडे ने दायर की हैं जबकि दो अन्य याचिकाएं दो व्यक्तियों एस. मुथुकुमार और आदिल एल्वी ने दायर की हैं। सुप्रीम कोर्ट ने 10 नवंबर को इन याचिकाओं पर मंगलवार को सुनवाई करने की सहमति जता दी थी।

सरकार ने कहा- हमारा पक्ष भी सुना जाए

याचिकाकर्ताओं का आरोप है कि सरकार के अचानक लिए गए इस फैसले से चारों तरफ अफरा तफरी मच गई और लोगों को काफी परेशानी हुई है। ऐसे में आर्थिक मामलों के विभाग की संबंधित अधिसूचना को या तो खारिज कर दिया जाना चाहिए और कुछ समय के लिए स्थगित रखा जाना चाहिए। उधर इस तरह की याचिकाओं की संभावना को देखते हुए केंद्र सरकार ने भी सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है। केंद्र ने एक कैवियट दाखिल कर कहा कि कोई भी अंतरिम आदेश जारी करने से पहले अदालत सरकार का पक्ष भी सुने।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर को 500 और 1000 के नोटों को रात 12 बजे के बाद अमान्य कर दिया था। उनके इस फैसले के बाद से पूरे देश में अफरा- तफरी मची हुई है। किसी के घर में शादी है तो किसी के घर में कोई बीमार है, ऐसे में पैसे न होने की वजह से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। बैंकों और एटीएम के बाहर लंबी लाइनें लगी हुई हैं। देश में आपातकाल जैसे हालात हो गए हैं। कई लोगों की जानें तक चली गईं। स्थिति को सामान्य होने में अभी दो हफ्तों का समय लगेगा।  

loading...
शेयर करें