पुराना दोस्त रूस भी भारत के साथ, पाकिस्तान को सुनाई खरी-खोटी

0

नई दिल्ली: रूस ने भले ही पाकिस्तान के साथ संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास किया हो लेकिन भारत और पाकिस्तान के बीच जारी तकरार में वह अपने पुराने दोस्त भारत के साथ ही खड़ा नजर आ रहा है। दरअसल, रूस ने भारत का पक्ष लेते हुए पाकिस्तान से आतंकियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने को कहा है। साथ ही रूस ने पाकिस्तान द्वारा भारत को दी गई न्यूक्लियर हमले की धमकी को लेकर भी निराशा व्यक्त की है। केवल रूस ही नहीं इस मामले को लेकर अमेरिका ने भी पाकिस्तान को खरी-खोटी सुनाई है।

न्यूक्लियर हमले की धमकी

न्यूक्लियर हमले की धमकी को लेकर अमेरिका ने भी की पाक की निंदा

रूस के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि वह आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत के साथ है। रूस ने भारत और पाकिस्तान को मौजूदा स्थिति को और खराब नहीं करने को कहा है। रूस ने कहा है कि वह भारत और पाकिस्तान के बीच LoC पर तनाव बढ़ने से चिंतित है।  भरोसेमंद दोस्त रूस ने भारत-पाकिस्तान से राजनीतिक और कूटनीतिक तरीकों से अपनी समस्या को हल करने को कहा है।

यह भी पढ़ें- सर्जिकल स्ट्राइक के बाद आतंकी खौफज़दा, पीओके छोड़कर भागे 300 आतंकी

आपको बता दें कि पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ ने बीते 15 दिनों में दो बार भारत को न्यूक्लियर हमले की धमकी दे चुके हैं। उन्होंने अपने एक बयान में कहा था कि पाकिस्तान भारत के खिलाफ न्यूक्लियर अटैक कर सकता है। पाकिस्तान की ओर से जारी हुए इस बयान पर अमेरिका ने आपत्ति जताई है।

यह भी पढ़ें- चीन और पाकिस्तान के बॉर्डर्स पर राफेल विमानों को तैनात कर सकता है भारत

अमेरिकी सरकार ने पाकिस्तान के इस बयान पर आपत्ति जताते हुए कहा कि वह न्यूक्लियर हथियारों की रक्षा की मॉनिटरिंग कर रहा है। पाकिस्तान कुछ भी कहे, लेकिन अमेरिका पहले से ही पाकिस्तान के न्यूक्लियर हथियारों की सेफ्टी पर नजर रखे हुए है।

अमेरिका के विदेश मंत्रालय के उप-प्रवक्ता मार्क टोनर ने कहा है कि न्यूक्लियर हथियार वाले देशों के ऊपर ‘बहुत जिम्मेदारी’ है। इससे पहले अमेरिका ने उरी अटैक की निंदा की थी। साथ ही अमेरिका ने पाकिस्तान और भारत से तनाव खत्म करने की अपील भी की थी।

 

 

 

 

 

loading...
शेयर करें