पनामा पेपर्स मामले में आइसलैंड के प्रधानमंत्री ने दिया इस्तीफा

0

रेकजाविक/ नई दिल्ली | पनामा पेपर्स लीक मामला सामने आने के बाद आइललैंड के प्रधानमंत्री सिगमुंडर गुन्नलाउगस्सोन ने मंगलवार को इस्तीफा दे दिया।  पनामा  लीक ने विदेशों में कंपनी स्थापित कर अपने देश में कर की चोरी करने का शर्मनाक चेहरा दुनिया के सामने उजागर किया है।
लीक में पता चला है कि पनामा की लॉ फर्म मोसाक फोंसेका में गुन्नलाउगस्सोन ने भी अपनी पत्नी विंट्रिस के साथ एक विदेशी कंपनी बना रखी थी। उन पर लाखों डॉलर की पारिवारिक संपत्ति को छुपाने का आरोप है। सोमवार को आइसलैंड की संसद के सामने लोगों ने काफी बड़ा प्र्दशन किया।

पनामा पेपर्स

पनामा पेपर्स , दुनिया के जानेमाने लोगों के नाम सामने आये

मोसाक फोंसेका फर्म के लीक हुए आंकड़ों में दुनिया के कई जानेमाने लोगों के नाम सामने आए हैं। गुन्नलाउगस्सोन ने पहले राष्ट्रपति ओलाफुर रगनार ग्रिमसन से संसद भंग करने की सिफारिश की थी, जिसे अस्वीकार कर दिया गया। ग्रिमसन ने कहा कि वे पहले राजनीतिक दलों के साथ मंत्रणा करना चाहेंगे। उन्होंने कहा, “मैं नहीं समझता कि प्रधानमंत्री को अकेले संसद भंग का अधिकार मिलना चाहिए, जबकि ज्यादातर संसद सदस्य इस फैसले से संतुष्ट हैं।”कुछ पर्यवेक्षकों का मानना है कि प्रधानमंत्री के अनुरोध को अस्वीकार करना बेहद असामान्य घटना है।

 

loading...
शेयर करें