पाक पीएम नवाज शरीफ की कहानी खत्म – 7 दिन में देंगे इस्तीफा, वरना तबाह कर दिए जाएंगे

0

लाहौर। पनाम पेपर्स मामले में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की मुसीबतें बढ़ती जा रही हैं। नवाज को सत्ता छोड़ने का डर सता रहा है। पाकिस्तानी वकीलों ने शनिवार को नवाज शरीफ को अल्टीमेटम दिया कि अगर वह पनामा पेपर्स मामले में सात दिनों में सत्ता नहीं छोड़ते तो वे उनके खिलाफ राष्ट्रव्यापी आंदोलन शुरू करेंगे। सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन और लाहौर हाईकोर्ट बार एसोसिएशन ने ये एलान किया है।

आर या पार, सेना प्रमुख ने कर दिया पाकिस्तान से जंग का ऐलान

पनाम पेपर्स मामले

पनाम पेपर्स मामले में नवाज शरीफ के खिलाफ आए वकील

दोनों बार एसोसिएशन का मानना है कि पनामा पेपर्स मामले में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मद्देनजर प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को अब अपने पद बने नहीं रहना चाहिए और इस्तीफा दे देना चाहिए। उन्होंने कहा कि पनामा मामले ने इस बात का स्पष्ट संकेत दिया है कि शरीफ और उनके बच्चों ने वित्तीय अनियिमताएं और भ्रष्टचार किए तथा जांच के लिए जेआईटी का गठन किया गया है। पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में संयुक्त जांच टीम का गठन कर दिया है और पीएम नवाज शरीफ और उनके दोनों बेटों को इस टीम के सामने जांच के लिए हाजिर होने का निर्देश दिया है।

मोदी सरकार की चेतावनी, मुस्लिम समाज ने तीन तलाक नहीं खत्म किया तो हम…

तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के चीफ इमरान खान ने क्या कहा

उधर, पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के चीफ इमरान खान ने कहा है कि पनामा पेपर लीक मामले में नवाज के खिलाफ जांच कर रही JIT को उनके भारत में बिजनेस इंट्रेस्ट्स की भी जांच करनी चाहिए। इमरान ने कहा है, शरीफ जनता की कमाई को उसी तरह लूट रहे हैं जैसे कभी ईस्ट इंडिया कंपनी ने लूटा था। मामले की शुरूआत तीन नवंबर को हुई थी और न्यायालय ने 23 फरवरी को कार्यवाही पूरी करने से पहले 35 सुनवाई की थीं। ये संपत्तियां तब सामने आई थीं जब लीक दस्तावेजों के एक संग्रह पनामा पेपर्स में दिखाया गया कि उनका प्रबंधन शरीफ के परिवार के मालिकाना हक वाली विदेशी कंपनियां करती थीं।

loading...
शेयर करें