पांच भाइयों की एक पत्नी…पता नहीं बेटा किसका

0

देहरादून। आपने महाभारत की कथा में द्रौपदी के बारे में तो सुना ही होगा जिनके पांच पति थे, लेकिन क्या आज के समय में आपने कभी ऐसी औरत के बारे में सुना है जिसके पांच पति हो। नहीं न…लेकिन उत्तराखंड के देहरादून के पास स्थित एक गाँव में एक महिला ऐसी है जिसके पांच पति हैं। महिला के यह पाँचों पति आपस में भाई हैं और एक साथ रहते हैं।

पांच पति

पांच पति की पत्नी है राजो

मिली जानकारी के अनुसार, राजो वर्मा नाम की एक औरत के पांच पति है। यह सभी एक साथ ही एक छत के नीचे रहते हैं। पांच भाइयों की पत्नी राजो वर्मा हर रात अलग-अलग भाइयों के साथ सोती है। किसी भी भाई का किसी से कोई झगडा नहीं है और सभी आपस में प्रेम से रहते हैं। बताया जा रहा है कि इस महिला का एक बेटा भी है लेकिन उसे यह नहीं मालूम कि उसके पिता कौन है।

बताया जा रहा है कि यहां के लोगों के लिए यह एक प्रथा है जिससे यहां के लोग नॉर्मल मानते हैं। इस प्रथा के मुताबिक, महिला को पति के भाइयों से शादी करनी होती है। फिर चाहे उसके जितने भी भाई हो।

एक वेबसाइट पर छपी खबर के अनुसार, इस महिला का कहना था कि शुरू में यह कुछ अजीब लगा। राजो की पहली शादी हिन्दू परंपरा से पहले पति गुड्डू के साथ 7 साल पहले हुई थी। इसके बाद उसने 32 साल के बैजू, 28 के संत राम, 26 के गोपाल, 19 के दिनेश से भी शादी हुई। सबसे आखिरी में दिनेश से शादी हुई जब उसकी उम्र 18 साल हो गई।

गुड्डू ने एक बार मीडिया से कहा था कि हम सभी उसके साथ सेक्स करते हैं, लेकिन मैं दूसरों से जलता नहीं हूं। हम सब एक बड़ी हैप्पी फैमिली हैं। पहले के दिनों में एक महिला से कई पुरुषों (जो आपस में भाई हों) की शादी की परंपरा को अधिक लोग फॉलो करते थे। लेकिन अब ऐसा कम ही होता है।

वेबसाइट में छपे इस लेख के अनुसार, उत्तरी भारत में हिमालय के आसपास के क्षेत्रों में रहने वाले और तिब्बत में इस तरह की प्रथा का चलन है। राजो कहती है कि उसे मालूम था कि उसे सभी पति को स्वीकार करना होगा, क्योंकि उसकी मां ने भी तीन पुरुषों से शादी की थी। वह यह भी कहती है कि उसे काफी अटेंशन मिलता है और बाकी पत्नियों के मुकाबले अधिक प्यार भी।

 

loading...
शेयर करें