पाकिस्तान की संसद पूरी तरह सौर ऊर्जा से चलेगी

0

इस्लामाबाद। पाकिस्तान की संसद ऊर्जा के मामले में मंगलवार को दुनिया की अन्य संसदों से अलग हो गई। यह दुनिया की पहली संसद बन गई है, जहां बिजली की सारी जरूरतें सौर ऊर्जा से पूरी की जाएंगी। ‘द न्यूज इंटरनेशनल’ की एक रपट के मुताबिक, प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने मंगलवार को इस्लामाबाद के संसद भवन में सौर ऊर्जा संयंत्र का उद्घाटन किया।

पाकिस्तान की संसद

पाकिस्तान की संसद ने रचा इतिहास

कुल 1.8 मेगावाट क्षमता वाले सौर बिजली संयंत्र के उद्घाटन के बाद संसद भवन की बिजली की समस्त जरूरतें इसी संयंत्र से पूरी होंगी। इस सुविधा के बाद पाकिस्तान की संसद दुनिया की पहली ऐसी संसद बन गई, जहां बिजली की समस्त जरूरतों की पूर्ति सौर ऊर्जा से होगी।

सौर पैनल को संसद की छत पर स्थापित किया गया है। इस सुविधा से बिजली पर खर्च होने वाले सालाना 2.8 करोड़ पाकिस्तानी रुपये (267,265 डालर) को बचाने में मदद मिलेगी। इस मौके पर शरीफ ने कहा कि साल 2018 पाकिस्तान के लिए बिजली की किल्लतें खत्म होने वाला साल होगा। उन्होंने कहा कि बिजली परियोजनाओं पर वह खुद निगरानी रख रहे हैं। इनमें से कुछ इस साल पूरी होंगी और कुछ अगले साल।

उन्होंने अपना कार्यकाल खत्म होने से पहले पाकिस्तान में बिजली संकट को खत्म करने का संकल्प लिया। बीते साल चीन की सरकार ने पाकिस्तान की संसद की बिजली की जरूरतों को पूरा करने के लिए वैकल्पिक स्रोत के रूप में सौर ऊर्जा प्रणाली की स्थापना के लिए अनुदान दिया था।

loading...
शेयर करें