पाकिस्तान के खिलाफ पीएम मोदी के साथ आया सबसे कट्टर मुस्लिम देश

0

नई दिल्ली। पाक द्वारा लगातार भारत में किए जा रहे आतंकी हमलों के चलते अब पूरी दुनिया पाकिस्तान के खिलाफ हो रही है। पाकिस्तान अलग थलग पड़ गया है। भारत सरकार भी अब लगातार पाकिस्तान को मु‍ंहतोड़ जवाब दे रही है। पहले पाक में होने वाला सार्क सम्मेलन रद्द हुआ, फिर भारत ने ब्रिक्स सम्मेलन में पाकिस्तान को न्योता नहींं दिया। अब पाकिस्तान के खिलाफ पीएम मोदी के साथ दुनिया का सबसे कट्टर मुस्लिम देश खड़ा हो गया है। इससे पहले अमेरिका और रूस के भारत के साथ आने पर पाक को झटका लग चुका है।

यह भी पढ़ें : पुतिन भारत को देंगे नई ब्रह्मोस मिसाइल, एक फायर में खत्म हो जाएगा पूरा पाकिस्तान

पाकिस्तान के खिलाफ

पाकिस्तान के खिलाफ अब इंडोनेशिया भी आया भारत के साथ

इस्लामिक सहयोग संगठन (ओआईसी) देशों के विदेश मंत्रियों की ताशकंद में हो रही बैठक में इंडोनेशिया कश्मीर मसले पर भारत की निंदा की पाकिस्तान की कोशिशों पर ऐतराज जता सकता है। इंडोनेशिया मुस्लिम आबादी के लिहाज से दुनिया का सबसे बड़ा देश है। मामले से वाकिफ सूत्रों ने बताया कि इंडोनेशिया भारत की निंदा वाले प्रस्ताव पर आपत्ति जता सकता है और वह कश्मीर मसले पर नरम रवैये के लिए ओआईसी को प्रेरित करने की कोशिश करेगा। सूत्रों के मुताबिक, इंडोनेशिया दुनियाभर में कट्टरपंथी ट्रेंड के उभार को लेकर चिंतित है।

मामले से वाकिफ एक शख्स ने नाम जाहिर नहीं किए जाने की शर्त पर बताया कि पिछले कई साल से ओआईसी की कार्यवाही में कश्मीर का मसला छाया रहा है, लेकिन इंडोनेशिया भारत के खिलाफ सख्त प्रस्ताव के पक्ष में नहीं है। विदेश मंत्रालय की सचिव (ईस्ट) प्रीति शरण ने अगस्त में फॉरेन ऑफिस कंसल्टेशन (एफओसी) के तहत मलेशिया और इंडोनेशिया का दौरा किया था। साथ ही, उन्होंने कश्मीर पर भारत के पक्ष और साउथ एशिया रीजन में सीमा पार आतंकवाद से खतरे के बारे में इन देशों के प्रतिनिधियों को जानकारी दी थी। इंडोनेशिया के अलावा ओआईसी का एक और मेंबर मलेशिया भी आतंकवाद से मुकाबले के लिए भारत के साथ मिलकर काम कर रहा है।

ब्रिक्स में क्या कहा था मोदी ने

ब्रिक्स सम्मेलन के दूसरे दिन पीएम मोदी ने जमकर पाकिस्तान पर गुस्सा निकाला था। उन्होंने नाम लिए बिना आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान पर हमला बोला था। प्रधानमंत्री मोदी ने ब्रिक्स देशों के राष्ट्राध्यक्षों से बात करते हुए कहा था कि हमारी समृद्धि के लिए आतंकवाद सबसे गंभीर खतरा है। विडंबना यह है कि भारत के पड़ोस में आतंकवाद की जन्मभूमि है।

loading...
शेयर करें