पाकिस्तान.. नेपाल, बांग्लादेश से भी बेहद पीछे छूट जाएगा, अगर…

0

पाकिस्तान अर्थव्यवस्था के जीडीपी पैमाने पर बांग्लादेश और नेपाल जैसे छोटे देशों से भी पीछे छूटने वाला है. ‘यूनाइटेड नेशन्स ऐंड सोशल कमीशन फॉर एशिया ऐंड द पैसिफिक’ (ESCAP) ने गुरुवार को पाकिस्तान की जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) की भविष्यवाणी करते हुए बताया कि 2019 में इसकी जीडीपी वृद्धि दर भारत, बांग्लादेश, मालदीव और नेपाल से बहुत नीचे रहने वाली है.

2019 में पाकिस्तान की जीडीपी वृद्धि दर 4.2 फीसदी रहने वाली है जो 2020 तक और गिरावट के बाद मात्र 4 फीसदी रह जाएगी. 2019 में भारत की जीडीपी वृद्धि दर 7.5 फीसदी, मालदीव और नेपाल की 6.5 फीसदी और बांग्लादेश की 7.3 फीसदी रहने का अनुमान है.

सर्वे में एशिया-प्रशांत देशों की आर्थिक स्थिति पर प्रकाश डाला गया है. कुल मिलाकर, क्षेत्र में 2019 में अनुमानित 5 फीसदी और 2020 में 5.1 फीसदी वृद्धि दर के साथ आर्थिक स्थिरता बनी रहेगी. हालांकि, निर्यात केंद्रित सेक्टरों को थोड़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था बड़े वित्तीय और चालू अकाउंट घाटे के बीच भुगतान असंतुलन संकट का सामना कर रही है. पाकिस्तान की करेंसी पर दबाव बहुत ज्यादा बढ़ गया है.

रिपोर्ट में एशिया-पैसेफिक देशों को कृषि आधारित अर्थव्यवस्था से उत्पादन क्षेत्र को दरकिनार करते हुए सीधे सेवा आधारित अर्थव्यवस्था में शिफ्ट करने के प्रति आगाह किया गया है.

इससे पहले एशियाई विकास बैंक (एडीबी) ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि पाकिस्तान की विकास दर वित्त वर्ष 2018 में 5.2 प्रतिशत से गिरकर 2019 में 3.9 फीसदी पर आ जाने का अनुमान है. एडीबी की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान की विस्तारवादी राजकोषीय नीति ने बजट और चालू खाते के घाटे को व्यापक रूप से बढ़ाया और विदेशी मुद्रा का भारी नुकसान किया है.

एडीबी ने कहा कि जब तक पाकिस्तान इस बड़े आर्थिक असंतुलन को कम नहीं करता है तब तक आर्थिक वृद्धि धीमी रहेगी, मुद्रास्फीति ऊंची रहेगी और मुद्रा पर दबाव बना रहेगा. पाकिस्तान को थोड़ा बहुत विदेशी मुद्रा भंडार भी बनाए रखने के लिए भारी मात्रा में बाहरी वित्तपोषण की जरूरत होगी.

loading...
शेयर करें