पाम संडे पर पालम चर्च के बाहर धमाका, 21 की मौत

0

काहिरा। पूरे विश्‍व में रविवार को पाम संडे मनाया जा रहा है। खबर है कि मिस्र में भी पाम संडे के लिए पालम चर्च के बाहर काफी भीड़ इकट्ठा थी। तभी पालम चर्च में धमाका हुआ। इस हादसे में 21 लोगों के मारे जाने की खबर है। कई घायल हुए हैं।

पालम चर्च में धमाका

पालम चर्च में धमाका सुनकर उड़े होश?

जानकारी के मुताबिक, काहिरा के उत्तर में टंटा के नील डेल्टा शहर में हमला हुआ। सरकारी टीवी चैनल के मुताबिक, इस हमले में करीब 50 लोग घायल हुए हैं। यहां मिस्र में ईसाई अल्पसंख्यक हैं। इनकी जनसंख्या मिस्र की कुल आबादी का लगभग 10 फीसदी हिस्सा हैं। इन पर बार-बार इस्लामिक चरमपंथियों द्वारा हमला किया जाता रहा है।

इससे पहले भी हो चुका है ब्‍लास्‍ट

ब्लास्ट की वजहों का पता नहीं चला है। इससे पहले, दिसंबर में मिस्र के सबसे बड़े कैथलिक चर्च में ब्लास्ट किया गया था। इस हमले में 25 लोगों की मौत हो गई थी और 50 जख्मी हुए थे।ये चर्च नॉर्थ काहिरा से 120 किमी दूर टांटा के नील डेल्टा सिटी में मार गिरजिस कोप्टिक चर्च में हुआ। वहां के वक्त के मुताबिक सुबह 10 बजे यह ब्लास्ट हुआ।

कौन हैं कोप्टिक क्रिश्चियंस?

कोप्टिक भी क्रिश्चियंस का एक ग्रुप है जो मूल रूप से मिस्र में ही रहते हैं। इनकी सबसे ज्यादा तादाद भी मिस्र में ही है। इसके अलावा ये लोग सूडान और लीबिया में भी रहते हैं।

मिस्र में रहने वाले कोप्ट्स को मिडल ईस्ट (पश्चिम एशिया) की सबसे बड़ी क्रिश्चियन माइनॉरिटी कम्युनिटी माना जाता है।

कोप्ट्स, अलेक्जेंड्रिया के कोप्टिक ऑर्थोडॉक्स चर्च को मानते हैं। चर्च का दावा है कि उसके 1 लाख 63 हजार मेंबर्स हैं।

इनकी लैंग्वेज भी कोप्टिक (प्राचीन मिस्री) है। हालांकि आजकल ज्यादातर कोप्ट्स अरबी बोलते हैं।

loading...
शेयर करें