IPL
IPL

हत्यारी पिस्टल ने खोला राज वरना पुलिस तो अंजान थी

कानपुर। कक्षा 6th के छात्र हीरालाल को बेवजह गोलियों से छलनी करने वाले हत्यारे का पाप उसे पुलिस की गिरफ्त तक ले गया। जिस पिस्टल से उसने हत्या की थी उसी ने पुलिस को क्लू दे दिया। वारदात के बाद वह दिल्ली भाग जाने के बाद फिर लौट आया और खामखा पुलिस से पंगा लिया और धरा गया। वर्ना पुलिस की जांच केवल मोबाइल और सीसीटीवी खंगालने तक ही सीमित थी। जबकि वह मोबाइल का इस्तेमाल ही नहीं करता था। जबकि पुलिस सटीक घटनास्थल से भी अंजान थी। फिर पिस्‍टल ने सारा राज खोल दिया।

पिस्टल

पिस्टल से पुलिस को मिला क्‍लू

शहर के बर्रा दो में एक सप्ताह पहले बेवजह छोटे से बच्चे पर जल्लाद की तरह गोलियां बरसा कर उसकी हत्या की घटना ने शहरवासियों को भी हिलाकर रख दिया था। हत्यारे की बात तो छोड़िये घटनास्थल तक अबूझ पहेली बना हुआ था। शहरी घटना की भर्त्सना करने के साथ कह रहे थे कि लाख सुराग न लगे, लेकिन उसने ऐसा पाप किया है जो उसे खुद पकड़वायेगा। यही हुआ भी। पुलिस की कवायद देख वह शहर छोड़कर पहले दिल्ली भाग गया। उसका पाप उसे फिर वापस शहर लाया। फिर वह कानपुर देहात में छिपने को लेकर जा रहा था। जहाँ वाहन चेकिंग के दौरान पुलिस के रोकने पर बाइक लेकर भागा और डिवाइडर से टकराया और पुलिस के हत्थे चढ़ गया। इसके बाद भी वह बच जाता। लेकिन जिस पिस्टल से हत्यारे ने बच्चे की जान ली थी। उसी पिस्टल ने पुलिस को क्लू दे दिया। 7 राउंड के पिस्टल में सिर्फ दो गोलियां मिलने पर बाकी पांच गोलियां न होना और छात्र को मारी गई पांच गोलियों की कड़ी को पुलिस ने जोड़कर देखा तो हत्यारा सामने आ गया।

पाप भगा रहा था नहीं तो पकड़ना मुश्किल था

एक सप्ताह बीत जाने के बाद भी पुलिस के हाथ कुछ नहीं लगा था। बस पुलिस तमाम तरह से तह तक जाने की योजना ही बना रही थी। घटना के समय किसी के न देखने और हत्यारे द्वारा मोबाइल का इस्तेमाल न करने से पुलिस की योजना कितनी सफल होती, यह कहना मुश्किल था। लेकिन पुलिस की चहल कदमी और खबरों के चलते हत्यारा घबरा गया। इसी के चलते वह भागने के जतन कर रहा था और उसकी यही गलती उसे खुद ब खुद पुलिस तक लेकर पहुँच गई।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button