पीएफ पर अब नौ फीसदी ब्याज मिलने की उम्मीद

0

नई दिल्ली। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) मौजूदा वित्त वर्ष 2015-16 में अपने सदस्यों के लिए पीएफ पर ब्याज दर बढ़ा सकता है। इस साल पीएफ के लिए 9 फीसदी ब्याज दर तय की जा सकती है। पिछले दो वित्त वर्षों के दौरान उसने अपने पांच करोड़ से ज्यादा सदस्यों को 8.75 फीसदी ब्याज दिया था।

पीएफ

पीएफ पर ब्याज से बढ़ेगी आय

ईपीएफओ के ट्रस्टी और भारतीय मजदूर संघ के सचिव पी. जे. बनासुरे के अनुसार मौजूदा वित्त वर्ष के दौरान ईपीएफओ की आय में बढ़ोतरी हो सकती है। पिछले अनुमान के अनुसार उसे 34,844.42 करोड़ रुपये की आय होने की संभावना थी।

पहले 8.95 फीसदी ब्याज देने की हुई थी सिफारिश
ईपीएफओ की फाइनेंस, ऑडिट एंड इन्वेस्टमेंट कमेटी (एफएआइसी) ने इस सप्ताह के शुरू में हुई बैठक में चालू वित्त वर्ष के लिए 8.95 फीसदी ब्याज देने की सिफारिश की थी।

8.95 फीसदी ब्याज देने से 91 करोड़ का बचेगा सरप्लस
बनासुरे जो एफएआइसी के भी सदस्य हैं, ने कहा कि अगर ईपीएफओ 8.95 फीसदी ब्याज देता है तो पिछले सितंबर में अनुमानित आय के आधार पर उसके पास 91 करोड़ का सरप्लस बचेगा। एफएआइसी इस महीने दोबारा बैठक करके ईपीएफओ की आय का अनुमान लगाएगा। इसमें ईपीएफओ की अनुमानित आय बढ़ाई जा सकती है। सितंबर के आय अनुमान के अनुसार अगर सदस्यों को 9 फीसदी ब्याज दिया जाता है तो उसे 100 करोड़ रुपये की कमी पड़ सकती है।

वित्त मंत्रालय लगाएगा अंतिम मुहर
उन्होंने कहा कि ताजा अनुमान के अनुसार हमें 100 करोड़ रुपये ज्यादा आय हासिल होगी। एफएआइसी आय के ताजा अनुमान के बाद सदस्यों को 9 फीसदी ब्याज देने की सिफारिश कर सकती है। इस सिफारिश के बाद ईपीएफओ का केंद्रीय ट्रस्टी बोर्ड मंजूरी देगा। इसके बाद वित्त मंत्रालय इस पर अंतिम मुहर लगाएगा।

वित्त मंत्रालय घटा सकता है ब्याज
वित्त मंत्रालय की ओर से संकेत मिल रहे हैं कि वह सार्वजनिक भविष्य निधि (पीपीएफ) जैसी लघु बचत योजनाओं पर ब्याज दर घटा सकता है। भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा ब्याज में कमी किए जाने के बाद वित्त मंत्रालय इस पर विचार कर रहा है।

loading...
शेयर करें