15 अगस्त के बाद शुरु होगा पीएम मोदी का नया मिशन

0

नई दिल्‍ली। देश के पीएम नरेंद्र मोदी अगले महीने 15 अगस्‍त के बाद से एक सीक्रेट मिशन पर निकल रहे हैं। इस सीक्रेट मिशन पर निकलने से पहले पीएम मोदी ने संभावना जताई है कि वह सफल होंगे। पीएम मोदी का कोहिनूर मिशन हैै अगला लक्ष्‍य। उन्‍होंने देश की जनता को विश्‍वास दिलाया है यह सीक्रेट मिशन हैं देश के सबसे बेशकीमती कोहिनूर हीरे को वापस लाकर देगा।

कोहिनूर हीरा

पीएम मोदी का कोहिनूर मिशन है सबसे अहम

खबर मिली है कि कोहिनूर की वापसी के लिए भारत सरकार के मंत्रियों के बीच विचार-विमर्श का दौर शुरू हो गया है। 15 अगस्त के बाद इस बारे में सरकार यूनाइटेड किंगडम सरकार से बातचीत शुरू कर सकती है। ब्रिटेन की नई प्रधानमंत्री थेरेसा मे की सरकार के साथ अब इस मसले पर बात होनी है।

ब्रिटिश राजघराने से कोहिनूर वापस लाने पर होगी बात

विदेश मंत्रालय के मुख्यालय जवाहर भवन में हुई उच्चस्तरीय बैठक में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और संस्कृति व पर्यटन मंत्री डॉ महेश शर्मा के साथ विदेश और संस्कृति मंत्रालयों के सचिव भी शामिल हुए। सूत्रों के मूताबिक बैठक में ये तय किया गया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सरकार के साथ ही देशवासियों की भावनाओं के मुताबिक कोहिनूर को इंग्लैंड के राजघराने से भारत वापस लाने की प्रक्रिया शुरू की जाय। इसके लिए दोनों सरकारों के बीच बातचीत तो होगी लेकिन इससे पहले की प्रक्रिया तय होनी है। यानी पहले ये तय किया जाए कि प्रक्रिया का स्वरूप कैसा हो।

विभिन्न मंत्रालयों से होगी बात

चिट्ठी लिखी जाए या इस मुद्दे को प्रतिनिधिमंडल स्तर पर होने वाली बातचीत का हिस्सा बनाया जाए क्योंकि ब्रिटेन की नई प्रधानमंत्री और सरकार के साथ इसे किस तरीके से आगे बढ़ना उचित होगा इस पर भी गहन विचार जरूरी है। वैसे संकेत तो ये मिल रहे हैं कि संसद के मानसून सत्र के बाद पीएम मोदी का कोहिनूर मिशन के बारे में सरकार के विभिन्न मंत्रालयों के बीच चर्चा होगी। फिलहाल तो ये तय किया जाएगा कि किन-किन तरीकों से प्रभावशाली ढंग से आगे बढ़ा जा सकता है. इसके बाद यूके सरकार से चर्चा हो।

पीएम मोदी का कोहिनूर मिशन को वापस लाने पर पहले भी हो चुकी है चर्चा

पंजाब के राजा महाराणा रंजीत सिंह के पास रहे कोहिनूर को अंग्रेज अपने साथ ले गए। वो अब इंग्लैंड की महारानी के राजमुकुट की शान बढ़ा रहा है। इससे पहले भी नेहरू सरकार के जमाने से ही इसे वापस लाने की चर्चा संसद में और संसद के बाहर होती रही है। एक बार पंडित नेहरू ने सदन में ये कहा भी था कि कोहिनूर को वापस लाना मुमकिन नहीं। लेकिन एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोहिनूर की वापसी का संकल्प जताकर माहौल गरम कर दिया है। सरकार के विभिन्न मंत्रालय भी इसे मुमकिन करने में आपसी तालमेल बढ़ाने में जुट गए हैं।

loading...
शेयर करें