2022 तक किसानों की आय दोगुनी करेंगे मोदी

0

बरेली। पीएम मोदी ने किसानों की एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि वह आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर यानी 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करना चाहते हैं। मोदी ने किसानों की एक सभा में अपने शासनकाल में किसानों के कल्याण के लिए उठाए गए कदमों के बारे में बताया। पीएम मोदी ने कहा कि अधिकतर सरकारें चुनाव नजदीक आने पर किसानों के लिए कल्याणकारी योजनाओं और प्रोत्साहनों की घोषणा करती हैं, लेकिन उनकी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार ऐसा नहीं करती है। “किसानों को भगवान के बाद सरकार से ही उम्मीदें होती हैं और यह हमारी जिम्मेदारी है कि उनका ध्यान रखें।”

पीएम मोदी

पीएम मोदी ने कहा पशुपालन में ध्यान देना होगा

पीएम मोदी ने कहा कि “मैं सभी राज्य सरकारों से अनुरोध करता हूं कि वे अपनी कार्य योजनाएं तैयार करें और मुझे भरोसा है कि हमारा और आपका सपना पूरा होगा।” “खेती के साथ-साथ पशुपालन, मधुमक्खी पालन, मछली पालन पर जोर देना होगा। पहले खेती के लिए पंजाब और हरियाणा का नाम आता था, लेकिन बाद में मध्य प्रदेश में भाजपा की सरकार आने के बाद खेती पर काम शुरू हुआ। किसानों के लिए योजनाएं बनाई गईं।”मध्य प्रदेश का नाम खेती के लिए काफी पीछे थे, लेकिन अब यह प्रदेश खेती के क्षेत्र में लगातार आगे बढ़ता जा रहा है। वहां के किसान कृषि में काफी आगे हो गए हैं।

75वीं सालगिरह में किसानों की आय दोगनी

मोदी ने अपना सपना साझा करते हुए कहा कि 2022 में जब भारत आजादी की 75वीं सालगिरह मना रहा होगा, उस समय तक किसानों की आय दोगुनी हो जानी चाहिए। उन्होंने इसके बाद किसानों से पूछा कि क्या उनका सपना पूरा होगा। यह लक्ष्य कठिन नहीं है। किसानों के कल्याण के मामले में केंद्र और राज्य सरकारों की एक ही सोच होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सेवा, विनिर्माण और कृषि क्षेत्र देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। किसानों के सामने चुनौतियां जरूर हैं, लेकिन इनके साथ आगे बढ़ना असंभव नहीं। उन्होंने कहा कि इन चुनौतियों को अवसर में बदला जा सकता है। “किसानों के सामने चुनौतियां हैं। परिवार बढ़ रहा है, जमीन के टुकड़े हो रहे हैं। परिवार के सदस्यों के हिस्से में बहुत ही कम जमीन आ रही है। ऐसे में किसान की पैदावार भी घट रही है।”जमीन कम होती है तो पैदावार भी घटती है। ऐसे में किसान देश का पेट कैसे भरेगा।

मोदी ने कहा कि चुनौतियों को अवसर में तब्दील किया जा सकता है। यदि किसान और राज्य सरकारें साथ दें तो इन चुनौतियों से निपटा जा सकता है। रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि देश में कृषि विभाग पूरी तरह राज्य सरकारों के हवाले है। जहां-जहां राज्य सरकारें कृषि कार्य में रुचि लेती हैं और बदलाव लाने का प्रयास करती हैं, वहां किसानों के लिए चलाई जा रहीं योजनाएं बेहतर रूप से चल रही हैं। किसान कल्याण रैली में प्रधानमंत्री ने किसानों के साथ ही राज्य सरकारों को भी केंद्र सरकार का साथ देने की अपील की।

loading...
शेयर करें