नवाबों की नगरी में 11 साल बाद आ रहे हैं प्रधानमंत्री

लखनऊ। पीएम मोदी 22 जनवरी को नवाबों की नगरी लखनऊ आ रहे हैं । राजधानी 11 साल बाद फिर अपने प्रधानमंत्री के स्वागत के लिए तैयार है। इसका फुल ड्रेस रिहर्सल गुरुवार को हो चुका है। एक दशक पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह लखनऊ आये थे। वे वर्ष 2005 के सितम्बर माह में एलआईसी की बीमा गोल्ड पालिसी का उद्घाटन करने आए थे। एलआईसी अफसर बताते हैं उनके साथ ही तत्कालीन वित्त मंत्री पी चिदम्बरम भी थे। उस दौरान प्रदेश के मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव थे।

पीएम मोदी

कहीं नहीं है मनमोहन का जिक्र

 

यह भी बड़े हैरत की बात है कि जिला प्रशासन के रिकार्ड में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के दौरे का कोई रिकार्ड नहीं है। सूचना विभाग के एक अधिकारी इतना ही बता सके कि वर्ष 2005 में एक दफे मनमोहन सिंह आए थे। उनका एकमात्र कार्यक्रम था। इसके बावजूद जिला प्रशासन के किसी भी अफसर को यह नहीं पता कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह कभी यहां आए थे। जिला प्रशासन ने अपने रिकार्ड में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के आगमन को बहुत खोजने की कोशिश भी की पर कुछ पता नहीं चल सका। रिकार्ड में सिर्फ 13 साल पहले प्रधानमंत्री रहे अटल बिहारी वाजपेयी के दौरे का ही जिक्र है।

नहीं भूले अटल बिहारी के दौरे

 

प्रशासनिक अफसरों को आज भी पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के दौरे याद हैं। उनके समय कलेक्ट्रेट में एसडीएम रहे एक अधिकारी ने बताया कि अंतिम बार वाजपेयी वर्ष 2003 की 21 व 22 जून को आए। लखनऊ के सांसद होने के कारण वाजपेयी ने प्रधानमंत्री के पद पर रहते हुए सबसे अधिक लखनऊ के दौरे किए। वे अपने छह साल के कार्यकाल में हर दूसरे माह यहां आए। उनके कार्यकाल में आम चुनाव से पहले महानगर में साड़ी वितरण कांड भी हुआ। इसके बावजूद उन्होंने अपना दौरा स्थगित नहीं किया। वाजपेयी के कार्यकाल में लखनऊ को कई बड़े तोहफे मिले।

दाल-रोटी और जीरा राइस खाएंगे मोदी

 

पीएम नरेन्द्र मोदी को शुद्ध शाकाहारी भोजन परोसा जाएगा। उन्हें बिना मसाले की दाल के साथ जीरा राइस व तवे की रोटी परोसी जाएगी। पीएम मोदी को दो तरह की सब्जियां भी दी जाएंगी लेकिन इसमें पनीर नहीं होगा। प्रधानमंत्री कार्यालय ने प्रदेश के मुख्य सचिव कार्यालय को प्रधानमंत्री के खाने का मेन्यू भेज दिया है। मुख्य सचिव कार्यालय ने जिला प्रशासन को इस मेन्यू के हिसाब से खाने का इंतजाम करने का निर्देश दिया है। इसी हिसाब से पीएम का भोजन तैयार होगा। पीएम मोदी 22 जनवरी को लखनऊ आ रहे हैं। लखनऊ में प्रधानमंत्री के दोपहर में खाने से लेकर रात के डिनर तक का इंतजाम किया जा रहा है। पहले अफसरों को उम्मीद थी कि हो सकता है प्रधानमंत्री नवाबी शहर के व्यंजनों या फिर गुजराती खाना पंसद करें। लेकिन ऐसा नहीं है। वह लखनऊ में शुद्ध दाल-चावल व चपाती खाएंगे।प्रधानमंत्री कार्यालय के विशेष कार्याधिकारी संजय भावसार ने पीएम को परोसे जाने वाले व्यजंनों का ब्योरा मुख्य सचिव कार्यालय को उपलब्ध करा दिया है। प्रधानमंत्री ने बिना तेल मसाले के शुद्ध शाकाहारी भोजन की इच्छा जतायी है। प्रधानमंत्री को भोजन से पहले मिक्स वेजीटेबल सूप दिया जाएगा। इसके बाद उन्हें मसाला चॉस मिलेगा। खाने में उन्हें तवे की रोटी, प्लेन जीरा चावल, दाल के साथ दो हरी सब्जियां भी परोसी जाएंगी। दोनों सब्जियां बिना मिर्च मसाले की होंगी। प्लेन कर्ड, नींबू तथा मीठे में मिक्सड कट फ्रूट भी उन्हें परोसा जाएगा। प्रधानमंत्री को लखनऊ में भोजन किस जगह परोसा जाएगा इसे गोपनीय रखा गया है।

डीजी (सुरक्षा) खुद संभालेंगे कमान

 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 22 जनवरी को प्रस्तावित प्रदेश दौरे पर अभेद्य सुरक्षा का खाका तैयार कर लिया गया है। लखनऊ में उनके कार्यक्रमों के दौरान सुरक्षा में एसपीजी के अलावा केंद्रीय अर्धसैनिक बल के जवान और एटीएस के कमांडो व एसटीएफ की क्विक रिस्पांस टीमें भी मुस्तैद रहेंगी। मुख्य सचिव अलोक रंजन ने बुधवार को गृह विभाग और पुलिस के शीष अधिकारियों से सुरक्षा प्रबंधों की जानकारी ली। इससे पहले 15 जनवरी को ही प्रमुख सचिव (गृह) देबाशीष पण्डा व पुलिस महानिदेशक सैयद जावीद अहमद ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए प्रधानमंत्री के कार्यक्रमों के दौरान किए जाने वाले सुरक्षा प्रबंधों की समीक्षा की थी।

पीएम मोदी के लखनऊ और वाराणसी दौरे के लिए पुख्ता सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं। केंद्रीय गृह मंत्रलय से दोनों जिलों के लिए 20 कंपनी केंद्रीय अर्धसैनिक बलों की मांग पहले ही कर ली गई थी। डीजी (सुरक्षा) गोपाल गुप्ता लखनऊ में सुरक्षा की कमान स्वयं संभालेंगे। उनके सहयोग में एडीजी विश्वजीत महापात्र के अलावा तीन डीआईजी भी लगाए गए हैं। लखनऊ में प्रधानमंत्री के तीन कार्यक्रम हैं, जिनमें से दो में वे हेलीकॉप्टर से जाएंगे। उनकी सुरक्षा में 10 एसपी, 18 एएसपी, 19 डीएसपी, 95 सब इंस्पेक्टर, 46 महिला सब इंस्पेक्टर व 845 सिपाहियों के अलावा 400 से ज्यादा यातायातकर्मी ड्यूटी पर लगाए जाएंगे। आईजी (कानून-व्यवस्था) ए. सतीश गणोश ने बताया कि दोनों जिलों में एटीएस का कमांडो दस्ता भी मुस्तैद रहेगा। गुरुवार को दोनों जिलों में सुरक्षा तैयारियों का रिहर्सल किया जाएगा।

यह भी पढ़ें- काशी में पीएम मोदी, ढाई घंटे में बांटेंगे आठ करोड़ की सौगात

 

यह भी पढ़ें- आज की शाम-ए-अवध प्रधानमंत्री मोदी के नाम…

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button