अगर नए नोटों की कमी नहीं तो बैंक क्यों नहीं बदल रहे पुराने नोट

0

नई दिल्ली। नोटबंदी को लेकर सरकार की निंदा करते हुए पूर्व वित्तमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी.चिदम्बरम ने शनिवार को कहा कि अगर नए नोटों और 100 रुपये मूल्य के नोटों की कमी नहीं है तो बैंक पुराने नोटों को क्यों नहीं बदल रहे हैं। चिदम्बरम ने ट्वीट कर कहा कि अगर विद्वान महान्यावादी मुकुल रोहतगी सही हैं कि मुद्रा की कोई कमी नहीं है तो बैंक आज (शनिवार) नोट क्यों नहीं बदल रहे हैं?

पी.चिदम्बरम

पी.चिदम्बरम: अगर नए नोटों की कमी नहीं तो बैंक क्यों नहीं बदल रहे पुराने नोट  

कांग्रेस नेता पी.चिदम्बरम की यह टिप्पणी शीर्ष अदालत में रोहतगी के बायन देने के एक दिन बाद आई है, जिसमें उन्होंने अदालत से कहा था कि दो लाख एटीएम, 1.25 लाख बैंक शाखाएं और पेट्रोल पम्प संचालित हैं, जहां से लोगों को पैसे मिल सकते हैं।

कालधन पर रोक लगाने की दुहाई देकर नरेंद्र मोदी सरकार ने 500 और 1000 रुपये के नोटों को अमान्य घोषित कर दिया है। चिदम्बर ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि क्यों हमारे बैंकों/बचत खातों से हमें हमारे पैसे निकालने की अनुमति नहीं है।

उन्होंने आगे कहा कि क्यों हजारों एटीएम अभी तक काम नहीं कर रहे हैं। नोटबंदी के बाद देश भर में बैंकों और एटीएम के बाहर पुराने नोट बदलने या पैसे निकालने के लिए लंबी कतारें देखी गई हैं।

loading...
शेयर करें