पुलिस की पिटाई से थाने में युवक की मौत

0

कानपुर। कानपुर पुलिस का खैफनाक चेहरा एक बार फिर सामने आया है। खबर मिली है कि शहर की पुलिस एक युवक जीशान को किसी मामले में उठाकर थाने ले गई। सूत्रों से पता चला है कि पुलिस ने थाने में युवक की जमकर खातिरदारी की। अगले दिन कानपुर देहात पुलिस उसी युवक को अस्पताल लेकर पहुंची। जहाँ युवक की मौत हो गई। थाने में युवक की मौत से गुस्साए परिजनों व ग्रामीणों ने थाने पर पथराव कर दिया।

थाने में युवक की मौत

थाने में युवक की मौत ने कराया बवाल

थाने में युवक जीशान की मौत पर उसके परिजनों ने खूब बवाल किया। बवाल की सूचना पर एसपी समेत तमाम अधिकारी मौके पर पहुँच गए। एसपी ने क्राइम ब्रांच प्रभारी 14 पुलिस कर्मियों को निलम्बित कर मामले की जाँच दूसरे सर्किल की पुलिस से कराने का आश्वासन देकर ग्रामीणों को शांत कराया।

हालत बिगड़ने पर लेकर पहुंचे अस्‍पताल

जनपद के बरौर थाना क्षेत्र के केसी गांव निवासी जीशान को क्राइम ब्रांच की पुलिस ने किसी मामले में उठाया था। दूसरे दिन उसकी हालत बिगड़ने पर थानेदार उसे लेकर अस्पताल पहुंचे। उस समय युवक की जीभ बाहर निकली हुई थी और साँसे उखड़ रही थीं। जहाँ थोड़ी देर बाद युवक ने दम तोड़ दिया। जैसे ही युवक के मरने की खबर गांव पहुंची तो भारी संख्या में लोग थाने पहुँच गए। इधर जानकारी होते ही एसपी सहित अन्य अधिकारी भी पहुँच गए।

पुलिस ने की कार्रवाई

गुस्साए लोगों ने थाने को घेरकर शव सौंपे जाने की मांग करने लगे। इधर सभी 14 पुलिस कर्मियों को निलम्बित कर पीड़ितों की तहरीर पर 9 पुलिस कर्मियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर अधिकारियों ने ग्रामीणों को शांत कराया।

फांसी लगाने की चर्चा

इधर थाने में युवक की मौत हुई तो पुलिस की साँसे फूल गईं। जीशान की मौत कैसे हुई और उसे किस मामले में उठाया गया था। यह बातें पुलिस की जुबान से नहीं निकल रही हैं। हालाँकि कुछ पुलिस कर्मी दबी जुबान से जीशान द्वारा फांसी लगाने की बात कर रहे हैं। यह भी बात उठ रही है कि जब पुलिस उसे अस्पताल लेकर पहुंची उससे पहले ही जीशान मर चुका था। फांसी के चलते उसकी जुबान भी बाहर निकल आई थी।

loading...
शेयर करें