फिल्म रिव्यू : ‘पूर्णा’ में कुछ तो है, देखकर राष्ट्रपति भी रोक न सके अपने आंसू

0

फिल्म का नाम: पूर्णा
डायरेक्टर: राहुल बोस
स्टार कास्ट: राहुल बोस, अदिति इनामदार, मीना गुप्ता, प्रिया, आनंद
रेटिंग: 3.5 स्टार

पूर्णा

पूर्णा फिल्म रिव्यू

कहानी

ये एक 13 साल की लड़की पूर्णा मालावत (अदिति इनामदार) की कहानी है जो तेलांगना के छोटे से गांव में रहती है। बेहद पिछड़े हुए इस गांव में रहने वालीं पूर्णा और उसकी चचेरी बहन प्रिया के घर की माली हालत बेहद खराब होती है जिसकी वजह से दोनों की स्कूल की फीस नहीं भर पाती और दोनों को स्कूल की सफाई करनी पड़ती है। फिर पूर्णा और प्रिया को पता चलता है कि पास के सरकारी स्कूल में पढ़ाई के साथ खाने- पीने की कई चीजें फ्री में मिलती हैं। इस वजह से दोनों घर से भागने का प्लान बनाती है लेकिन पकड़ ली जाती हैं और प्रिया की छोटी उम्र में ही शादी करा दी जाती है। प्रिया की शादी के बाद पूर्णा के पिता बेटी की जिद के चलते उसे सरकारी स्कूल में दाखिल कराते हैं जहां उसे पढ़ने के साथ वहीं रहना भी होता है। एक दिन आईपीएस ऑफिसर प्रवीण कुमार (राहुल बोस) को पता चलता है कि सरकारी स्कूलों में ठीक खाना नहीं मिलता और एक सरकारी स्कूल की पूर्णा इसी वजह से स्कूल छोड़कर भाग गई है। प्रवीण किसी तरह पूर्णा को समझाकर वापस स्कूल लाते हैं। फिर पूर्णा जब स्कूल के बच्चों के साथ पहाड़ चढ़ने के ट्रिप पर जाती है तो उसके रुझान को देखकर कोच खुश होते हैं। धीरे-धीरे वो पर्वतारोहण सीखने लगती है और उसका नाम माउंट एवेरेस्ट पर चढ़ाई के लिए दे दिया जाता है। 25 मई 2014 को पूर्णा एवेरेस्ट पर चढ़ाई करने वाली सबसे कम उम्र की लड़की बन जाती है।

डायरेक्शन

सीमित बजट के साथ राहुल बोस ने कमाल की फिल्म बनाई है। अच्छे मेसेज़ के साथ-साथ फिल्म के लोकेशन्स, डायलॉग्स, स्क्रीनप्ले सबकुछ जबरदस्त है। राहुल ने शून्य से भी कम तापमान में शूटिंग करने की हिम्मत दिखाकर काबिले-तारीफ काम किया है। इंटरवल के बाद की फिल्म आपको अपनी सीट से हिलने नहीं देगी।

एक्टिंग

पूर्णा के रोल में अदिति इनामदार ने बेहतरीन एक्टिंग की है। इस रोल को निभाने के लिए अदिति ने लंबी ट्रेनिंग और कई वर्कशॉप भी किए। पूरी फिल्म अदिति के कंधों पर ही टिकी रही। राहुल बोस ने अपने किरदार को पूरी ईमानदारी के साथ निभाया है।

म्यूजिक

फिल्म का म्यूजिक बहुत इंस्पायरिंग है। बैकग्राउंड स्कोर भी बेहतरीन है।

देखें या नहीं

छोटी- छोटी बातों को नज़रअंदाज़ कर दें तो फिल्म में ऐसा कुछ नहीं जिससे आप निराश हों। अपने पूरे परिवार के साथ आपको एक बार ये फिल्म जरूर देखनी चाहिए।

 

loading...
शेयर करें