पूर्व सीएम बोले- एनएच घोटाले सहित पुराने तमाम घोटालों की जांच हो

0

देहरादून। पूर्व सीएम हरीश रावत ने भाजपा के एनएच घोटाले में सीबीआई जांच की संस्तुति पर कहा कि तमाम घोटालों की जांच होनी चाहिए। उन्होंने सीधे तौर पर भाजपा नेताओं का नाम लिए बिना पुराने तमाम घोटालों की जांच कराए जाने की बात कही। साथ ही उन्होंने सीबीआई पर अविश्वास जताने के बजाय कहा कि ये जांच उच्चतम न्यायालय या उच्च न्यायालय के मौजूदा न्यायाधीश की अध्यक्षता में कराई जानी चाहिए।

पूर्व सीएम हरीश रावत

पूर्व सीएम हरीश रावत को सीबीआई जांच पर भरोसा नहीं

हरीश रावत कुछ समय वीआइपी दीर्घा में बैठे भोजनकाल में उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि भ्रष्टाचार के विरुद्ध सख्त से सख्त कदम उठाए जाने चाहिए। इसके अलावा उन्होंने स्टूर्जिया घोटाले और ढैंचा बीज घोटाले की जांच की भी मांग की। उन्होंने कहा कि भाजपा-कांग्र्रेस के कार्यकाल में सामने आए सभी घोटालों की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए।

मीडिया द्वारा पूछे गए एक सवाल में उन्होंने सीबीआइ जांच को लेकर अविश्वास नहीं जताया। उन्होंने कहा कि सब समझदार हैं। इसलिए जांच के लिए मौजूदा न्यायाधीश की अध्यक्षता में समिति गठित किए जाने की मांग कर रहे हैं।

जब मीडिया ने उनसे उनके कार्यकाल के दौरान जांच न कराए जाने की बात पूछी तो उन्होंने कहा कि जब उन्होंने कार्यकाल संभाला तब राज्य आपदा से जूझ रहा था हैं। वे उसी में व्यस्त थे हैं। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि उनके कार्यकाल में लिए गए किसी भी फैसले के लिए वे जिम्मेदार हैं। अधिकारी इस मामले में बाद में आते हैं।

कांग्र्रेस के विधायक फुरकान अहमद और ममता राकेश को मिल रही धमकियों के मामले में को लेकर भी पूर्व सीएम ने नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश के साथ कहा कि सरकार ने इस मामले को गंभीरता से नहीं लिया है। न ही इसके खिलाफ अभी तक कोई ठोस कदम उठाये हैं।

कांग्र्रेस विधानमंडल दल की नेता चुने जाने पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इंदिरा हृदयेश को बधाई दी। विधायी एवं संसदीय कार्य मंत्री प्रकाश पंत ने भी नेता प्रतिपक्ष को बधाई दी। वहीं, विधानसभा सचिव जगदीश चंद्र ने बताया कि उत्तराखंड विधानसभा अधिनियम-2008 के तहत 27 मार्च से इंदिरा हृदयेश को नेता प्रतिपक्ष के रूप में नियुक्त किया गया है।

loading...
शेयर करें