IPL
IPL

पैन कार्ड की अनिवार्यता के खिलाफ कैंडिल मार्च

लखनऊ। पैन कार्ड की अनिवार्यता के लिए मोदी सरकार अलग अलग कानून लेकर आ रही है जिसका विरोध भी शुरू हो गया है। राजधानी लखनऊ में पैन कार्ड की अनिवार्यता के खिलाफ व्‍यापारियों ने कैंडिल मार्च निकाला और सरकार से दो लाख की खरीद और बिक्री पर पैन कार्ड की जरूरत खत्‍म करने की मांग की। 

पैन कार्ड की अनिवार्यता

पैन कार्ड की अनिवार्यता के खिलाफ व्‍यापारी एकजुट

केन्‍द्र सरकार ने एक जनवरी से दो लाख रुपए से ऊपर का काेई सामान खरीदने या बेचने पर पैनकार्ड काे अनिवार्य बना दिया है। राजधानी लखनऊ के सर्राफा व्‍यापारियों का तर्क है कि देश में केवल 15 करोड़ ही पैनकार्ड धारक हैं और इसमें से चार करोड़ पैनकार्ड ही वैध हैं। व्‍यापारियों ने मांग की है कि दो लाख की खरीद और बिक्री पर पैनकार्ड की अनिवार्यता रखना ठीक नहीं है। सर्राफा व्‍यापारियों का कहना था कि पहले पांच लाख रुपए ट्रॉस्‍जक्‍शन पर पैनकार्ड जरूरी होता था। सर्राफा व्‍यापारियों ने मांग की है कि पैनकार्ड की लिमिट को पहले की तरह पांच लाख रहने दिया जाए। इस बारे में लखनऊ सर्राफा एसोसिएशन के वरिष्‍ठ महामंत्री प्रदीप अग्रवाल ने एक ज्ञापन भी दिया। इसके विरोध में व्‍यापारियों ने जीपीओ गांधी प्रतिमा पर कैंडिल मार्च निकाला।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button