IPL
IPL

प्यार में पागल ये नौजवान हद से गुजर जाने को हैं तैयार

नई दिल्ली| नौजवान दिल प्यार में गिरफ्तार हैं। कहने वाले इसे कम उम्र का आकर्षण कह सकते हैं या सिर्फ शारीरिक लगाव, लेकिन युवाओं को इन बातों की परवाह नहीं है। उनका नजरिया इस मामले में साफ़ है। उनका अफेयर अगर किसी से है तो वे इसमें दिल लगाए हुए हैं। ख़ास बात ये कि इन युवाओं का कहना है कि इस नए साल में वे अपने प्यार को और ज्यादा समय दे रहे हैं। अपने प्यार को निभाने का उनका इस साल का संकल्प भी है।  ये बातें हाल ही में हुए एक रिसर्च में सामने आई हैं।

प्यार का ये सर्वे किया शादी डॉट कॉम ने

प्यारवेबसाइट शादी डॉट कॉम द्वारा किए गए सर्वेक्षण में कुंवारे भारतीयों के विचार को समझने की कोशिश की गई। इस ऑनलाइन सर्वेक्षण में 16,500 लोगों ने हिस्सा लिया जिनमें 25 से 34 साल के कुंवारे युवा शामिल थे। जब उनसे यह पूछा गया कि क्या वे नए साल पर संकल्प लेने में यकीन करते हैं, तो 42.5 फीसदी लोगों ने कहा, “हां, मैंने अपने साथी के साथ ज्यादा वक्त बिताने का संकल्प लिया है। जिससे हमारा दिल लग गया है, जिससे हमें प्यार है, हम उसे ज्यादा वक़्त देंगे। हाँ, इसमें प्यार ही पहले नंबर पर है।” वहीं, 33,9 फीसदी लोगों का कहना था कि नहीं संकल्प लेने का कोई फायदा नहीं क्योंकि बाद में हम इसे भूल जाते हैं। जबकि 23.6 फीसदी लोगों ने कहा कि संकल्प जरूर लेना चाहिए, अगर वो गलत आदतों को छोड़ने से संबंधित हो।

लड़कियां भी निभाएंगी पूरा साथ

इस सर्वेक्षण में भाग लेने वाली 7,547 लड़कियों और महिलाओं से जब यह पूछा गया कि क्या वे अपने साथी की नए साल के संकल्प को पूरा करने में मदद करेंगी। तो 59.4 फीसदी ने कहा हां, 27.5 फीसदी ने कहा न और 27.5 फीसदी ने कहा कि देखेंगे। महिलाओं से उनके खुद के संकल्प के बारे में पूछने पर 38.1 फीसदी ने कहा वे सोशल मीडिया पर कम समय बिताएंगी और अपने साथी को ज्यादा सयम देंगी। जबकि 28.5 फीसदी महिलाओं ने कहा कि वे अपने साथी के साथ ज्यादा घूमने जाएंगी। जबकि 33.4 फीसदी का कहना था कि उन्होंने व्यायाम करने और स्वस्थ जीवनशैली बिताने का संकल्प लिया है। इन सभी का ये कहना था कि हम प्यार की पूरी तरह परवाह करते हैं, फिर ये प्यार अपने काम से हो, किसी दोस्त से हो या ये प्यार पढ़ाई से हो।

घर में सोना नहीं हमसफ़र के साथ घूमना पसंद

9,025 पुरुषों से यह पूछा गया कि क्या वे अपने साथी की नए साल के संकल्प को पूरा करने में मदद करेंगे। 64.1 फीसदी का जवाब हां था, 17.3 फीसदी का जवाब न था और 18.6 फीसदी ने कहा कि सोचेंगे। जब इन लोगों से खुद के संकल्प के बारे में पूछा गया तो 42.7 फीसदी लोगों ने कहा, “वे अपने साथी और पसंदीदा खेल के बीच संतुलन बनाने की कोशिश करेंगे।” 36.4 फीसदी लोगों ने कहा, “वे छुट्टियों के दिन सोने की बजाए साथी के साथ घूमने की योजना बनाएंगे।” जबकि 20.9 फीसदी का कहना था कि वे नए व्यंजनों को बनाना सीखेंगे।

शादी डॉट कॉम के मुख्य कार्यकारी अधिकारी गौरव रक्षित ने एक बयान में कहा, “यह देखना दिलचस्प है कि किस तरह से लोगों की सोच बदल रही है। नए चलन से यह साफ जाहिर होता है कि अब लोग निजी फैसलों की बजाए मिलकर फैसला करने में ज्यादा यकीन रखते हैं।”

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button